तकनीकी की लय

तकनीकी की लय में रिश्ते अब ढल रहें हैं ,

पीर की नीर हो अधीर जल धारा बन बह रही है,

मन्तव्य क्या, गन्तव्य क्या,

भावनाओ की तरंगे सागर की लहरो सी, विक्षिप्त क्रंदन कर रही हैं।

तकनीकी की प्रवाह में संवेदनाएं ढल रहीं है,

मौन प्रकृति के मन को जो टटोल सकें वो मानस कहाँ बन रहें हैं,

आधुनिकता की होड़ में नव कल से मानव ढल रहे हैं,

शुष्क मन संवेदनहीन जन कल से यूँँ हीं चल रहें हैं,

तकनीकी के लय में कल से जीवन ढल रहें हैं।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. ashmita - June 30, 2019, 10:51 pm

    Beautiful

Leave a Reply