Majdur

Majdur main majdur hun siksha se dur hun koe meri madad karo mai bahut ehsani hun sabki meharcni hun mere liye jamin bhi paraya hai ankhon me nami pyasa man pyasa tan buhi meri nigahe gamgin rahe bujhti nigage pal bhar ki khusi bhi nahi mil sakti

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply