मदहोश

होश में रहने वाले ही अक्सर बेहोश निकले,
बिना पिए ही पीने वालों से मदहोश निकले,

बोलने वालों की भीड़ का जायज़ा किया हमने,
न बोलने से बोलने वाले ज्यादा ख़मोश निकले,

जो बहाने बनाते रहे साथ हैं हम तुम्हारे कहके,
बगल में रहने वालों से ज़्यादा सरगोश निकले।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. ashmita - July 9, 2019, 2:11 pm

    वाह वाह

  2. Anjali Gupta - July 12, 2019, 4:33 pm

    Nice

Leave a Reply