तस्वीर बनाने बैठा हूँ।

बहुत दिनों के बाद नई तस्वीर बनाने बैठा हूँ,
मुझसे रूठी थी जो मेरी तकदीर बनाने बैठा हूँ,

इल्जामों की सबने जो फहरिस्त लगाई है मुझपे,
कोरे कागज़ पे मैं अपनी तहरीर बनाने बैठा हूँ,

कोई नहीं है पास मेरे सब वयस्त नज़र ही आते हैं,
मैं मन ही मन में ख्वाबों से तकरीर बनाने बैठा हूँ।।

राही अंजाना

तकरीर – बातचीत
तहरीर – लिखावट

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply