सरकार

खबर मिली है के सबको ही ज़रा खबरदार रहना है,
अपनों को अपनों से ही सम्भलकर मेरे यार रहना है,

करली बहुत सी बेवकूफियां तुमने अब छोड़ो सबको,
सुनो इस दुनियां में तुम्हें थोडा तो समझदार रहना है,

गुमराह करने में लगें हैं एक दूसरे को सब ऐसे मानो,
के बनाकर उन्हें जानो खुद की यहॉं सरकार रहना है।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. ashmita - August 15, 2019, 2:15 pm

    Nice

  2. Poonam singh - August 16, 2019, 8:31 pm

    Nice

Leave a Reply