Poems

अच्छा बुरा सब एक वक्त के है दो पहलू

अच्छा बुरा सब एक वक्त के है दो पहलू
जिन शमशीरों ने सामाजो को बचाया है
उन्ही ने लाखों का खून भी बहाया है

…… यूई

कौन किसका यहां फ़ैसला करे

कौन अच्छा है कौन बुरा
कौन किसका यहां फ़ैसला करे
पल पल बदलते रंगों में
कौन सफेद स्याह का रंग चुने

…… यूई

जीवन यहां पे सबको है

यही प्रथा है इस ग्रह की
जीवन यहां पे सबको है
ज़िन्दगी की कवायत यहां की
जिंदा है रिवायत वहां की

…… यूई

उस बाज़ी में

उस बाज़ी में
कभी ना थी तूने मानी
इस बाज़ी में
अब किसी ने ना तेरी मानी

…… यूई

जब था वक्त

जब था वक्त
तब किसी की ना मानी
जब ना अब वक्त
तब ना किसी की मानी

…… यूई

Page 1441 of 1782«14391440144114421443»