Poems

कितनी बातें अनकही रह जाती है

कितनी बातें अनकही रह जाती है

कितनी बातें अनकही रह जाती है
कितने लम्हे बिना जीए ही बीत जाते है
सोचते सोचते दिन महीने साल
धीरे धीरे सब गुजर जाते है

“ख्याल” #2Liner-38

ღღ__तुमने रोका है इनको “साहब”, या हम भूलने लगे हैं अब;
.
कि अब ख्याल भी तेरे, हमसे मिलने नहीं आते !!………‪#‎अक्स‬

कुछ लोग कह रहे हैं ज़माना बदल गया

कुछ लोग कह रहे हैं ज़माना बदल गया !
नज़रें बदल गई हैं निशाना बदल गया !!
मुद्दत की अपनी लाश है पहचानिए ज़रा !
केवल कफ़न नया है पुराना बदल गया !!

आर्य हरीश कोशलपुरी

वर्ष कलैंडर शाल हैं बदले !

वर्ष कलैंडर शाल हैं बदले !
किंतु न अपने हाल हैं बदले !!
नये साल का शोर करो मत !
पेड़ों ने बस छाल हैं बदले !!
थोड़ा चतुर हुई क्या मछली !
मछुवारों ने जाल हैं बदले !!
वही आरती वाले कर हैं !
बस स्वागत के थाल हैं बदले !!
एक गोल के चट्टे बट्टे !
थोड़ा सा पगताल हैं बदले !!
धन धरती सामूहिक कर लो!
दद्दा देखो काल हैं बदले !!


आर्य हरीश
जिलासचिव -प्रलेस अ० न०

YAD RAHEGA UN VEER SAPOOTO KA BALIDAAN

Shahaadatt ki Lekhni se ———
likhi gyi Aazadi ki daastaan
Yaad rahega un veer sapooto ka balidaan

katra– katra khoon se
seenchee mitti Hindustan ki
badhte gye aage hrrdm—
parwaah kiye binaa Jaan ki
zarrra– zarrra vatan ka maanega ehsaan
yaad rahega un veer sapooto ka balidaan

Maao me doodh ki taaqat
bahno me aanchal ki himmmat
patniyo ke pyaar ki daulat
veeraangnaao ki adamya saahas
addbhoot dikhaa thaa swaabhimaan
yaad rahega un veer sapooto ka balidaan

sachchaii khilti rahe,achchaaii milti rahe,
her dill ho Ram ka—-
chehare pe aks shyaam ka
hrr gun ho sitaa ki—
dhunn Radhaa me naam ka
nafratt ko jeetkarr pyaar se—
nikallkarr agyaan ke andhkaar se
saddbhaav bhaaiichaare ke saath—
ektaa ki gatthbandhan
chhoo paayenge jivan ke naye
aayam
Bhaarat ke naye kalpanaao ki udaan
Fizaaye bhi krti rahegi ——–
——-un veero ko pranaam

Shahaadatt ki Lekhni se–
likhi gyi aazadi ki daastaan——
yaad rahega un veer sapooto ka balidaan

——–Ranjit Tiwari”Munna”

Page 1518 of 1647«15161517151815191520»