देश भक्ति कविता डाउनलोड

sone Ka Bharat mera

Sone ka Bharat,mera Chandi ka Gujarat Hai -2 Tajmahal Dekhke,Lalkila Dekhke Dushman bhi Hairan Hai -2 Sone ka Bharat… Gandhi ka jawab Nahi,Nehruji Lajwab Hai-2 Modi Ko Dekhke,Kejriwal Ko Dekhke,mushraf Bhi Hairan Hai -2 Sone ka Bharat… Sachin ka jawab Nahi,Viru Bhi Lajwab Hai-2 Dhoni Ko Dekhke Kohli Ko Dekhke Watson Bhi Hairan Hai-2 Sone ka Bharat… Bacchan ka jawab Nahi,Dharmendr... »

आज़ादी का जश्न

आज़ादी का जश्न

आज़ादी के जश्न बहुत पहले भी तो तुमने देखे माँ के दिल से बहते वो आंसू भी क्या तुमने देखे, भूखे बच्चे लुटती अस्मत व्यभचारी ये व्यवस्था है क्या सच में हो गए वो पुरे सपने जो तुमने देखे , हर किसान गमगीन यहाँ हर पढ़ा लिखा बेचारा है छिपे हुए उनकी आँखों के आंसू क्या तुमने देखे , पर संकल्प आज ये करते हम सब मिल कर है सारे करेंगे सपने वो पूरे जो मिलकर हम सबने देखे , न हिन्दू न मुसलमान न सिख न कोई ईसाई है लड़ कर... »

तिरंगा हमारा भगवान है

तिरंगा हमारा भगवान है

तिरंगा बस झण्डा नहीं हम सब का सम्मान है। तिरंगा कोई कपडा नहीं पूरा हिन्दुस्तान है।। तिरंगा कोई धर्म नहीं सब धर्मों की जान है। तिरंगा बस आज नहीं पुरखों की पहचान है।। तिरंगा बस ज्ञान नहीं ज्ञान का वरदान है। तिरंगा कोई ग्रंथ नहीं पर ग्रंथों का संज्ञान है॥ तिरंगा में दंगा नहीं हिन्दु और मुसलमान है । तिरंगा कोई गीत नहीं प्रार्थना और अजाने है॥ तिरंगा कोई मानव नहीं मानवता की पहचान है। तिरंगा में जाति-धर्... »

तिरंगा

तिरंगा

माँ की गोद छोड़, माँ के लिए ही वो लड़ते हैं, वो हर पल हर लम्हां चिरागों से कहीं जलते हैं, भेज कर पैगाम वो हवाओं के ज़रिये, धड़कनें वो अपनी माँ की सुनते हैं, हो हाल गम्भीर जब कभी कहीं वो, चुप रहकर ही वो सरहद के हर पल को बयाँ करते हैं, रहते हैं वो दिन रात सरहद पर, और सपनों में अपनी माँ से मिलते हैं, वो लड़कर तिरंगे की शान की खातिर, तिरंगे में ही लिपटकर अपना जिस्म छोड़ते हैं, जो करते हैं बलिदान सरहद पर, चल... »

देशभक्ति का पाठ पढ़ाना होगा

जाति धर्म देखे बिना, देशद्रोहियों को अपने हाथों से मिटाना होगा नई पीढ़ी को अभिमन्यु सा, गर्भ में देशभक्ति का पाठ पढ़ाना होगा तुम्हें व्यक्तिवाद छोड़कर राष्ट्रवाद अपनाना होगा हर व्यक्ति में भारतीय होने का स्वाभिमान जगाना होगा लोकतंत्र को स्त्तालोलुपों से मुक्त कराना होगा देशभक्ति को भारत का सबसे बड़ा धर्म बनाना होगा वीरता की परम्परा को आगे बढ़ाना होगा हर भारतीय को देश के लिए जीना सिखाना होगा – Fer... »

कविता

कविता

मेरा देश महान घनघोर घटा में अलख जगा कर देख रहा मतिहीन, जाग सका ना घन गर्जन पर जग सोने में लीन, इस निस्तब्ध रजनी में मै और मेरा स्वप्न महान, खोज रहा अधिगम जिससे जग सच को लेता जान ! देह थकी तो बहुत जरूरी है उसको विश्राम किन्तु न चिंतन को निद्रा गति इसकी है अभिराम | जला हुआ है दीप तो एक दिन उजियाली लायेगा अंधकार से मुक्त मही को लौ भी दिखलायेगा गंगा के तट बैठ पुरवैया के मस्त हिलोरे माँझी की गीतो में क... »

स्वतंत्र भारत

जब स्वतंत्र भारत राज तो और स्वतंत्र हैं विचार तो, फिर घिरे हुए है क्यों सुनो तुम आतंक में भारतवासियों, वीर तुम बढ़े चलो अब आतंकी सारे मार दो, सरहद पर तुम डटे रहो, गद्दार सारे मार दो, जब स्वतंत्र भारत…. भरा हुआ है भ्रष्टो से समाज ये सुधार दो, करो खत्म भ्रस्टाचारी और भ्रष्टाचार को उखाड़ दो, छुपा हुआ काला धन उस धन को भारत राज दो, जब स्वतंत्र भारत…. तुम सो रहे घरों में हो बेफिक्र मेरे साथियो... »

मेरा भारत मा

तुम्हारी कंधे पर, झुकती है हिमालय तुम्हारी छाती से फूटती है गंगा तुम्हारी आचल के कोने से  निकलती है हिंद महासागर मुझे गर्व है कि जन्म इस भूमी के जिसके लिए विश्व तरसे मा तुम्हे प्रणाम है, मुझे हिन्दुस्तानी कहलाते छोटी उच्चा हो जाता है, तिरंगा लहराते ।। »

स्वतंत्रता दिवस

कदम कदम बढ़ा रहे हैं, अपनी छाती अड़ा रहे हैं, कश्मीर की धरती पर वो सैनिक अपनी, माँ का गौरव बढ़ा रहे हैं, तोड़ रहे है दुश्मन पल पल, सरहद की दीवारे हैं, वीर हमारे इनको घुसा के धूल चटा रहे है, जो साथ में रहकर साले पीठ में छुरा घुसा रहे हैं, देश के जवान सामने से इनको इनकी औकात दिखा रहे हैं॥ राही (अंजाना) »

स्वतंत्रता दिवस

चलो मिलकर एक नया मुल्क बनाते हैं, जहाँ सरहद की हर दिवार मिटाते हैं, छोड़ कर मन्दिर मस्ज़िद के झगड़े, हरा और भगवा रंग मिलाते हैं, चलो मिलकर एक….. जिस तरह मिल जाते हैं परिंदे परिंदों से उस पार बेफिकर, चलो मिलकर हम भारत और पाकिस्तान को एक आइना दिखाते हैं, जब खुदा एक और रंग एक है खून का तो, चलो मिलकर हम सारी सर ज़मी मिलाते हैं॥ चलो मिलकर एक नया मुल्क बनाते हैं॥ राही (अंजाना) »

Page 9 of 11«7891011»