बेटी पर मार्मिक कविता

A pray for india

जब तक है जीवन तब तक इस की सेवा ही आधार रहे विष्णु का अतुल पुराण रहे नरसिंह के रक्षक वार रहे हे प्राणनाथ! हे त्रयंबकम! शिव शंभू के शिव सार रहे हम रहे कभी ना रहे मगर इसकी प्रभुता का पार रहे शेखर के वह उद्गार रहे अब्दुल हमीद सम ज्वार रहे हे पवनपुत्र! हे मारुति! भारत ही बारंबार रहे अब्दुल गफ्फार का शांति मार्ग बूढ़े जफर की तलवार रहे अब्दुल कलाम के प्राण बसे हिंदू मुस्लिम समभार रहे कण कण मिट्टी में वसु... »

तुझे शर्म नहीं आई

नमस्कार दोस्तों आप सब देख रहे हैं आज कल बच्चियों के साथ कुछ बहेशी दरिन्दे जो कर रहे हैं दो शब्द आज लिखने पर मजबूर हो गया ऐसे कुकर्म करते जरा भी शर्म क्या तुझे नहीं आई। उसे देख तुझे अपनी बेटी याद क्या तुझे नहीं आई।। “” “” ” चिखती चिल्लाती तो कभी दर्द से कराहती भी होगी। उस मासूम पर जरा सा भी रहेम क्या तुझे नहीं आई।। ” “” “” वो तुझे चाचा भईय... »

क्या था क़सूर मेरा??????

क्या था क़सूर मेरा????? (पीड़ित बेटी आसिफ़ा के सवाल) 1.गहन गिरवन सघन वन में बहुत खुश अपने ही मन मे मूक पशु पक्षी के संग में था बसा परिवार मेरा….. पूछना में चाहती हु क्या था क़सूर मेरा ????? 2.बेटी बन में घर तुम्हारे आ गयी थी खुशियां बन परिवार जन पर छा गयी थी दो समय का भोज था और कुछ थे अपने थी भली वह झोपड़ी न थे महल सपने था ये हंसता खेलता संसार मेरा …… पूछना में चाहती हु क्या था क़सूर म... »

क्या था क़सूर मेरा??????

क्या था क़सूर मेरा????? (पीड़ित बेटी आसिफ़ा के सवाल) 1.गहन गिरवन सघन वन में बहुत खुश अपने ही मन मे मूक पशु पक्षी के संग में था बसा परिवार मेरा….. पूछना में चाहती हु क्या था क़सूर मेरा ????? 2.बेटी बन में घर तुम्हारे आ गयी थी खुशियां बन परिवार जन पर छा गयी थी दो समय का भोज था और कुछ थे अपने थी भली वह झोपड़ी न थे महल सपने था ये हंसता खेलता संसार मेरा …… पूछना में चाहती हु क्या था क़सूर म... »

उसकी आबरु को यहाँ छीन लिया जाता हैं

उसकी आबरु को यहाँ छीन लिया जाता हैं, जिस देश मे”बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ” का नारा दिया जाता हैं, हर छोटे मसले पर यहाँ बड़े फैसले होते हैं, बस अहम बात को दबा दिया जाता हैं, रौंद देते हो मासूमियत को पैरों तेले, तुम्हारे अंदर का इंसान क्या मर जाता हैं, जब आती हैं बात इंसाफ़ की, मेरे देश का कानून किधर जाता हैं, सीता हो, द्रोपदी हो, या हो निर्भया, आसिफा क्यों,हर लड़ाई में स्त्री के अस्तित्व को नोच ... »

बांधकर बेड़ियों से कोमल पैरों को खींच कर

बांधकर बेड़ियों से कोमल पैरों को खींच कर

बांधकर बेड़ियों से कोमल पैरों को खींच कर, घर की चौखट के बाहर वो कभी जाने नहीं देते, हिम्मत जो जुटाती है बेटी कोई पढ़ने को, तो उसके कदमों को आगे कभी वो जाने नहीं देते, कितने संकुचित मन होते हैं वो, जो झूठी रस्मों से बाहिर कभी आने नहीं देते।। राही (अंजाना) »

वक्त

आज मैंने वक़्त को महफील में बुलाया…. बहस तब छिड़ी जब वक़्त ही वक़्त पर ना आया… सबने आरोप लगाये लोग आगबबूला हुए… और वक़्त बेचारा नज़रे फिराए बैठा रहा… गरीब ने कहा मेरा वक़्त बुरा था सबने परेशान किया तुमने साथ क्यों नहीं दिया… बाप बोला मेरा बेटी ICU में थी उसे थोड़ा वक़्त और क्यों ना दिया… जवां बेटा बोला मैं अफसर बनने ही वाला था तुमने मेरी माँ को थोड़ा वक़्त और क्यों ना दिया... »

अटल अविचल धर पग बढ़ नारी

अटल अविचल धर पग बढ़ नारी जीवन मे नव इतिहास गढ़ नारी नारी है तू यह सोच न कमतर कम॔ कर तू अभिनव हटकर तुझसे बंधा है सुख परिवार का सव॔ सुख दे सदा तू श्रेयस्कर आत्मबल से लक्ष्य पकड़ नारी अटल अविचल धर पग बढ नारी उलझन तनाव डिप्रेशन अवसाद जिंदगी की महज परीक्षा है उत्तीर्ण हो सदा सजग बनकर यही सम्पूर्ण नारी शिक्षा है धीरज से मंजिल राह पकड़ नारी अटल अविचल धर पग बढ नारी जननी माता बहन बेटी तू ही पत्नी प्रेयसी त... »

नारी

शिव की शक्ति बनकर तूने हर एक क्षण साथ निभाया नारी, पिता- पती के घर को तूने हर एक क्षण महकाया नारी, हर एक युग में अपने अस्तित्व का तूने एहसास कराया नारी, प्रश्न उठे भरपूर मगर हर जन को तूने निरुत्तर कर दिखाया नारी, ममता के आँचल में मानुष को तूने प्रेम सिखाया नारी, आँख उठी जो तुझपर तूने काली रूप दिखाया नारी, बेटा-बेटी के बीच पनपते फर्क को तूने मिटाया नारी, कन्धे से कन्धा मिलाकर तूने जग में सम्मान फिर... »

तेरी शान से ही तो हर पल मेरी शान है

महिला दिवस पर प्रत्येक महिला को समर्पित ये छोटा सा लेख।। तेरी शान से ही तो हर पल मेरी शान है, जहाँ-जहाँ तू कदम रखे वहाँ मेरा सम्मान है, निःस्वार्थ भाव से सेवा करके तू माँ होने का बख़ूबी अर्थ समझाती है, तो बेटी के रूप में ईश्वर का अस्तित्व दिखलाती है, जब तू ब्याह कर नए घर में आती है, तब मानो उस घर की तक़दीर ही बदल जाती है, तिरंगा को ऊँचा करके तू देश को गर्व कराती है, विपदा से निपटने के लिए तू ज्वाला ... »

Page 3 of 712345»