love

तेरे न होने का वज़ूद

एक तू ही है जो नहीं है बाकि तो सब हैं लेकिन… तेरे न होने का वज़ूद भी सबके होने पे भारी है मुझे भी जैसे तुझे सोचते रहने की एक अज़ीब बीमारी है। नहीं कर सकता आंखे बंद क्योंकि तेरा ही अक्ष नज़र आना है उसके बाद तब तक जब तक मैं बेखबर न हो जाऊ खुद के होने की खबर से और अगर आंखे खुली रखूँ तो दुनिया की फ्रेम में एक बहुत गहरी कमी मुझे साफ नज़र आती है जो बहुत ही ज्यादा चुभती चली जाती है क्योंकि उस फ्रेम में... »

SHAYARI

उसके चुप रहने का अंदाज़ बहुत कुछ कहता है इशारो की बातें हैं कोई लफ्ज़ भी इतने सलीखे से नहीं कहता है। »

The Candle and The Moth

What an intriguing relationship they share: the candle and the moth They’re strangers in arid daylight They’re companions when darkness is all in the sight Love is bewildering they say, love is splintering they say It is enigmatic and obvious, it is obscure and pure The submission is so sacred, driven by the appetite for love Off goes the moth, guided by the warmth of love and flames of wrath The ... »

To Love in Chains

To love in chains is not to love at all, To love in shame is to render the heart lame. For what is love but a heart set free, Mad with curiosity, LIke a bird once in captivity, Now flying high singing with glee. To love in chains is to rot from within, A heart growing weary and thin, Dying of starvation, grim. The heart thrives on freedom and honesty, Honestly being truthful to oneself expressing ... »

लकीरों के बीच तस्वीर

लकीरों के बीच तस्वीर

कभी–कभी कागज पर खिंची लकीरों के बीच भी कोई तस्वीर इस कदर से जिंदा हो जाती है कि जिसकी होती है वो तस्वीर उससे मिले बगैर ही उससे मिलकर होने वाली बातें उस तस्वीर से हो जाती है।                                        –कुमार बन्टी   »

सिर्फ मधु ही नहीं

तुम्हारे होठों का सिर्फ मधु ही मुझे प्यारा नहीं बल्कि प्यारी लगती हैं वो कड़वी बातें भी जो तुम कहती हो क्योंकि वो होती हैं हमेशा ही मेरे भले की।                                                 –   कुमार बन्टी   »

SHAYARI

उससे दोबारा होगी मुलाकात  क्योंकि गोल है दुनिया, इस उम्मीद में इंतजार उसका आज़ भी बरकरार है। »

SHAYARI

तेरे नैनों की किताबें पढ़ने की जिद्द पकड़ी है इस दिल ने, तू अपनी पलकों का ये पहला पन्ना तो पलट दे। »

SHAYARI

  तुझसे  मिलने का  मुझे कोई  आसार भी नहीं दिखता। लेकिन इंतज़ार तेरा करते–करते मैं फिर भी नहीं थकता। »

SHAYARI

SHAYARI

तंग नहीं करता हूँ मैँ उसे आज़कल ये बात भी तो  उसे  तंग करती है । »

Page 1 of 64123»