कविता गज़ल गीत शेर-ओ-शायरी

বাংলা भोजपुरी ગુજરાતી छत्तीसगढ़ी ਪੰਜਾਬੀ मराठी English  अवधी

4.3k Poets 15k Poems 85k Reviews


Trending Poets @Saavan

सर्वश्रेष्ठ कवि, आलोचक व सदस्य : गीता कुमारी



 संपादक की पसंद

 कविता प्रकाशित करने के लिए यहां क्लिक करें |


Latest Activity

  • हिम्मत तो देखो ज़ुबान की, कैंची जैसी चलती है,
    बत्तीस दांतों घिरी होकर भी निडर हो मचलती है।
    बिना हड्डी की मांसल जीभ, कई कमाल करती है,
    फंसा दांत में तिनका, निकाल के ही दम भरती है।।

    दुनियां भर के स्वाद का […]

  • नेकी कर दरिया में डाल,
    यह कहावत बड़ी कमाल।
    आओ सुनाऊं एक कहानी,
    नेकी करने की उसने ठानी।
    उस ने नेकी कर दरिया में डाली,
    वह नेकी एक मछली ने खा ली।
    नेकी खाकर मछली हो गई,
    खुशियों से ओत प्रोत।
    नेकी कर और ब […]

  • लाख समझाने पर भी, गली-बाजार में भीड़ करें,
    बिना मास्क खुल्लमखुल्ला सबसे वार्तालाप करें।
    सेनेटाइजर का इस्तेमाल, हाथ धोना भी बंद करें,
    आओ साथी हम भी मरें, औरों का इंतजाम करें।।

    बार-ब […]

  • हवा में उड़ाओ पतंग,
    खुद को जमीं पे खड़ा रखो।

    दान धर्म करके बंधुवर,
    अपना दिल भी बड़ा रखो।

    घमण्ड रुपी पतंग कटवाकर,
    सपनों को बुलंद रखो।

    रंग-बिरंगी पतंगों जैसा ,
    परचम अपना लहराए रखो।

    धागे अने […]

  • बम लहरी, बम बम लहरी

    (शिव महोत्सव विशेष)

    शिव शम्भू जटाधारी, इसमें रही क्या मर्जी थारी,
    सर पे जटाएं, जटा में गंगा, हाथ रहे त्रिशूलधारी।
    गले से लिपटे नाग प्रभू, लगते हैं भारी विषधारी,
    असाधारण वेश बना र […]

  • जब मिलीं दो युगल आँखें
    अधर पर मुस्कान धर के।
    गा उठे टूटे हृदय के
    भ्रमर मधुरिम तान भर के।

    सर झुकाकर दासता
    स्वीकार की अधिपत्य ने।
    गर्मजोशी जब परोसी
    अतिथि को आतिथ्य ने।

    यूँ लगा रूखे शहर में
    गाँव फिर से […]

  • मुस्कुरा कर बोलना,
    इन्सानियत का जेवर है।
    यूं तेवर न दिखलाया करो,
    हम करते रहते हैं इंतज़ार आपका,
    यू इंतजार न करवाया करो।
    माना गुस्से में लगते हो,
    बहुत ख़ूबसूरत तुम
    पर हर समय गुस्से में न आया करो।
    बिन खता क […]

    • मुस्कुरा कर बोलना,
      इन्सानियत का जेवर है।
      यूं तेवर न दिखलाया करो,
      हम करते रहते हैं इंतज़ार आपका,
      – रोमानियत अंदाज की बहुत खूबसूरत पंक्तियां। मुस्कुराने को प्रेरित करती शानदार रचना। बेहतरीन शिल्प, खूबसूरत भाव।

      • इतनी सुन्दर और प्रेरणा देती हुई समीक्षा हेतु आपका बहुत बहुत
        बहुत धन्यवाद सतीश जी।आपकी समीक्षा वास्तव में कवि हृदय में उत्साह का संचार करती हैं, हार्दिक आभार सर

    • अतिसुंदर भाव

    • मुस्कराहट दिलों को जोड़ती है,
      क्रोध रिश्ते, इज्जत और दिल सबकुछ खत्म कर देता है
      सुंदर रचना

    • सुंदर रचना गीताजी। वैसे देखा जाए तो सही मायने में मुस्कुराहट की कीमत तेवर झेलने बाद ही तो समझ आती है !

    • सर्वश्रेष्ठ कवि, सर्वश्रेष्ठ आलोचक और सर्वश्रेष्ठ सदस्य सम्मान की बहुत बहुत बधाई गीता जी।

  • सब्र की जरूरत है,
    समय सब कुछ बदलता है।
    परिवर्तनशील इस संसार में,
    सांझ तक सूर्य भी ढलता है।
    जीवन में श्रेष्ठ कर्म करो,
    यह रामायण सिखाती है।
    द्वेष,बैर भाव और लालच को,
    महाभारत दर्शाती है।
    महाभारत ग्रंथ ने […]

    • सब्र की जरूरत है,
      समय सब कुछ बदलता है।
      परिवर्तनशील इस संसार में,
      सांझ तक सूर्य भी ढलता है।
      — आपकी रचना बहुत श्रेष्ठ रचना है। शिल्प व भाषा का सुन्दर समन्वय। जीवन दर्शन से समाहित अद्भुत समन्वय

      • आपकी इस उत्कृष्ट और प्रेरक समीक्षा हेतु धन्यवाद करने को शब्द नहीं मिल रहे हैं सतीश जी।इस सुंदर समीक्षा के लिए आपका हार्दिक आभार सर

    • बहुत सुंदर

    • धीरज सफलता की कुंजी है
      बहुत खूब

  • एक युवती बन कर बेटी,
    मेरे घर आई है।
    अपने खेल खिलौने माँ के घर छोड़कर,
    हाथों में लगाकर मेहंदी
    और लाल चुनर ओढ़ कर
    मेरे घर आई है।
    छम छम घूमा करती होगी,
    माँ के घर छोटी गुड़िया सी
    झांझर झनकाकर, चूड़ि […]

    • एक युवती बन कर बेटी,
      मेरे घर आई है।
      अपने खेल खिलौने माँ के घर छोड़कर,
      हाथों में लगाकर मेहंदी
      और लाल चुनर ओढ़ कर
      मेरे घर आई है।
      —— बहुत खूब, बेहतरीन रचना, भाव व शिल्प का अद्भुत समन्वय

    • बहुत सुंदर और प्रेरक समीक्षा के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद सर

    • अतिसुंदर भाव

    • बेटी
      बचपन की यादों को
      संजोकर
      चली ससुराल

  • Load More

 सावन एक आनलाइन प्लेटफ़ार्म है, जहां एक कवि अपनी कविताओं को प्रकाशित कर सकता है, एक कवि की साशियल प्रोफ़ाइल के रूप में इसे जाना जाता है| यहां कवि अपनी कवितायें तो प्रकाशित तो करते ही है, साथ ही अन्य कवियों की कविताओं का लुफ़्त उठाते हुए, उनका आंकलन भी करते है|

आधुनिक कवियों को एक मंच उपलब्ध कराना ही हमारा प्रयास है, जहां नवीन प्रतिभाओं को उपयुक्त पहचान और सम्मान दिया जा सके। इसके साथ ही हम आधुनिक साहित्य की बिखरी हुई अनमोल रचनाओ का संकलन करना चाहते है ताकि अगली पीढ़ी इस अनमोल धरोहर का आनंद और लाभ ले सके|

आप सभी से अनुरोध है की हमारे इस प्रयास में अपना योगदान दे| अगर आप को लगता है की आप अच्छा लिखते हैं या आप अपने आस पास किसी भी व्यक्ति को जानते हो जो अच्छा लिखते हैं, उन्हें सावन के बारे में जरूर बताएं।

 सावन पर सत्यापित बैज verified badge के लिये अनुरोध करें|

सम्पर्क:  
+91 91168 00406
 connect@saavan.in