कविता गज़ल गीत शेर-ओ-शायरी

বাংলা भोजपुरी ગુજરાતી छत्तीसगढ़ी ਪੰਜਾਬੀ मराठी English  अवधी

4.1k Poets 13.6k Poems 78k Reviews


‘Poetry on Picture’: सावन काव्य प्रतियोगिता (Result)

Trending Poets @Saavan

सर्वश्रेष्ठ कवि :  सतीश पांडेय 
सर्वश्रेष्ठ आलोचक व सदस्य : गीता कुमारी



 संपादक की पसंद

 कविता प्रकाशित करने के लिए यहां क्लिक करें |


Latest Activity

  • इस सर्दी के मौसम में,
    दिन कितनी जल्दी ढलता है।
    जिसके घर में प्रतीक्षारत हो कोई,
    उसका पग घर की ओर,
    जल्दी-जल्दी चलता है।
    इस सर्दी के मौसम में,
    दिन कितनी जल्दी ढलता है।
    जो है तनहा इस जगत में […]

    • बहुत खूब, सर्दी के मौसम का उत्तम चित्रण। भाव, भाषा और शिल्प का अदभुत समन्वय

      • इतनी सुंदर और प्रेरक समीक्षा के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद सतीश जी। प्रोत्साहन हेतु आभार सर

  • रविवार की छुट्टी थी,
    पर कोहरा कर्तव्य निभाने आ गया
    सर्दियों के मौसम में,
    और सर्दी बढ़ाने आ गया।
    धूप भी डर कर छुप गई है,
    ठंड का डंडा चलाने आ गया।
    घूम रहा है बेधड़क राहों पर,
    देखो सितम ढ़ाने आ गया।
    अवकाश है […]

  • घर आँगन में फूलों सी खिलती हुई लड़कियाँ!
    फ़ीकी दुनिया में मिसरी सी घुलतीं हुई लड़कियां!!

    उदासियों की भीड़ में हँसती हुई मिलती हैं!
    ज़िम्मेदारी के बोझ तले पिसती हुई लड़कियाँ!!

    ढल जाती हैं पानी सी […]

    • राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, बालिकाओं पर आधारित कवियत्री अनु उर्मिल जी की बहुत सुंदर रचना। बालिका दिवस की बहुत-बहुत बधाई

    • बहुत खूब, अति सुन्दर रचना

  • # द्रौपदी की प्रतिज्ञा

    द्रौपदी का परिचय-

    आ खींच दुशासन चीर मेरा, हर ले मेरा सौंदर्य सजल ।
    आ केश पकड़ कर खींच मुझे, अपना परिचय दे ऐ निर्बल ।
    मैं राजवंशिनी कुल कीर्ति हूँ, गांधारी हूँ मैं कुं […]

    • वाह एक सार्थक और ओजस्वी रचना….दिनकर जी की रश्मिरथी की याद हो आयी। धन्यवाद इस रचना के लिए…🙏

      • Thanks, Anu Ji for liking my poem. Your comments put me in awe smile. It is a big compliment if my poem reminds you of Dinkar Ji. He was by far the greatest poet India ever had.
        Read my poem which is full of Veer ras. You can have access to it on Google with the title name.

        एकलव्य की गुरु-दक्षिणा

        हे गुरु करो आदेश अभी मैं तत्पर शीश चढाने को ।

        अंगुष्ठ है मेरा तुच्छ भेंट, कहो राज्य जीत के लाने को ।

        मैं निपुण धनुर्धर धरती का, ये भेद तुम्हे बतलाता हूँ ।

        दे दो अवसर मुझे आज अभी प्रत्यक्ष तुम्हे दिखलाता हूँ ।।

        मैं दन-दन् बाण चलाता हूँ, वीरों के दिल दहलाता हूँ ।

        सूरज भी डर छिप जाता है, मैं ऐसा शौर्य दिखाता हूँ ।

        है किसके बाणों में वो दम, जो काट सके मेरे बाणों को ।

        इस जग में वीर कहाँ कोई, जो हर ले मेरे प्राणों को ।।

        रणभूमि सिंह सा जाता हूँ, मैं यम से आँख मिलाता हूँ ।

        सेनायें भी थर्राती हैं, ऐसी प्रत्यंचा चढ़ाता हूँ ।

        मैं कुरु का वंशज भले नहीं, पर कुरु सदृश संग्रामी हूँ ।

        मुझमें बसता है रण कौशल, मैं रणक्षेत्र का स्वामी हूँ ।

        भीष्म सा जग में वीर नहीं, ये सत्य अभी झुठलाता हूँ ।

        आज्ञा का दो आशीष मुझे, मैं भीष्म से द्वंद मचाता हूँ ।।

        बाणों से आग धधकते हैं, बाणों से मेघ बरसते हैं ।

        दम-दम चमके बिजली घन में, मैं ऐसा बाण चलाता हूँ ।

        गंगाा का पथ जो रोक सके, बाणों का बाँध बनाता हूँ ।

        गुरु द्रोण चुनो मुझे शिष्य आज, मैं स्वर्ग जीत के लाता हूँ ।।

        वो वीर ही क्या जो लड़ा नहीं, संग्राम वेदी पर चढा नहीं ।

        वो वीर नहीं कायर है वो, पग जिसका रण में पड़ा नहीं ।।

        वीरों का ऐसा हस्र ना हो, यूँ वीर कोई निशस्त्र ना हो ।

        कोई वीर ना बांधे बंधन से, वीरों का सूर्य कभी अस्त ना हो ।।

        हे गुरु सूनो विनती मेरी, मुझको इक प्रबल चुनौती दो ।

        धरती का उत्तम वीर चूनो, मुझको मेरा प्रतिद्वंदी दो ।।

        वीरों का एक ही परिचय है, वीरों की जाती नहीं होती ।

        सामर्थ्य राजसी रत्न नहीं, बिन जीते ख्याति नहीं होती ।

        है किसमें बल जो साध सके, मुझको बाणों से बाँध सके ।

        धरती पर कौन धनुर्धर है, जो मेरी प्रत्यंचा काट सके ।।

        हे गुरु कहो क्या योजन है, मैं किसके जय का संकट हूँ ।

        किसके सिर मुकुट सजाना है, क्या मैं कुरु वंश का कंटक हूँ ।

        ये शस्त्र मेरे आराध्य प्रभु, बिन लड़े ये जीवन व्यर्थ ना हो ।

        ऐसा जीवन किसकी मंशा, जिसमें युद्ध का अंश ना हो ।

        निज लहू मुझे धिक्कारेगा, ये शौर्य मेरा चित्कारेगा ।

        जयकारा करने वाला जग, मुझे नीची आँख निहारेगा ।

        गुरु मुझको ऐसा पाप ना दो, ऐसा भयंकर शाप ना दो ।

        गुरु कर देना संहार मेरा, पहले मुझे रण का अवसर दो ।

        स्वेच्छा से आज मरूँगा मैं, पर मेरे बल का उत्तर दो ।।

        उद्घोष करो, जयघोष करो, कि मुझसा वीर अजन्मा हूँ ।

        हे गुरु आज पहचान करो, क्या मुझसा शिष्य कभी जन्मा है ।।

        धरती के वीर इकट्ठे हों, बन खड़े हो सामने प्रतिद्वन्दी ।

        है ऐसे युद्ध की चाह मुझे, जहाँ बाँण गिरे बन रणचंडी ।।

        हे गुरु मुझे बतला दो तुम, इतिहास मुझे क्यों याद करे ।

        क्या है मेरी उपलब्धि वो, जिस पर ये जग संवाद करे ।

        एकलव्य वीर था जग माने, ऐसी कोई युक्ति दे दो ।

        हे गुरु करो स्वीकार मुझे, चरणों में मुझे भक्ति दे दो ।।

        हे गुरु मुझे अफसोस नहीं, अंगुष्ठ दान का शोक नहीं ।

        गुरु द्रोण समर्पित तन मेरा, घनघोर है हर्षित मन मेरा ।

        गुरु अभी दक्षिणा देता हूँ, अंगुष्ठ काट के देता हूँ ।।

        अजीत कुमार सिंह

      • My 1 more poem on Yudh. It is published on Sahitya Manjari.

        युद्ध की विभिषिका

        गिरी के भीषण भार से, भयभीत ना संहार से, मैं तब भी था, मैं अब भी हूँ, मैं समर हूँ डिगता नहीं ।

        मैं ऊर्ध्व हूँ, मैं मूल हूँ, अज्ञानता की भूल हूँ ।

        मैं घना अंधकार हूँ, बढ़ता हुआ संहार हूँ ।।

        सीता के अपहरण में हूँ, द्रौपदी के चीरहरण में हूँ ।

        अर्जुन के अमोघ प्रण में हूँ, कुरुक्षेत्र के हर रण में हूँ ।।

        शुंभ मैं, निशुंभ मैं, शिव का धधकता लिंग मैं ।

        मैं हार में, संहार में, मैं हर तरफ हाहाकार में ।।

        बालि का अतुलित बल हूँ मैं, शकुनि का बढ़ता छल हूँ मैं ।

        अनुराग में मैं द्वेष हूँ, साधू बना लंकेश हूँ ।।

        मंदोदरी के करुण विलाप में, गांधारी के प्रलाप में ।

        मैं दिन में हूँ, मैं रात में, मैं अट्टहास विलाप में ।।

        चाणक्य के अपमान में, द्रौपदी के लुटते मान में ।

        निर्धन की बढ़ती कुण्ठा में, गांडीव की चढ़ती प्रत्यंचा में ।

        मैं तब भी था, मैं अब भी हूँ, मैं समर हूँ डिगता नहीं ।।

        प्रस्तुत सदा हर युद्ध में, वीरों के घटते बुद्ध में ।

        मैं भोग में, मैं विलास में, मानव तेरे इतिहास में ।।

        मारीच की मैं मरीचिका, विध्वंश की मैं विभिषिका ।

        अशोभनीय मैं शोक हूँ, कलिंग में लड़ता अशोक हूँ ।

        अविराम हूँ, मैं अनन्त हूँ, मानव का बढ़ता अन्त हूँ ।

        मैं तब भी था, मैं अब भी हूँ, मैं समर हूँ डिगता नहीं ।।

        कुरुक्षेत्र का जब रण सजा, अट्टहास कर मैं हँसा ।

        निर्बुद्ध है ना जानते, अपने-अपनों को न मानते ।

        रणबांकुरे तन के खड़े, अपने-अपनों से ही लड़े ।

        चहुमुख भयंकर शोर था, गांडीव का वो जोर था ।

        कटते हुए नर शीश थे, ईश्वर भी कुछ भयभीत थे ।

        हैरान मैं हॅसता रहा, कुछ हो रहा यूँ युद्ध था ।

        वीरों के प्रज्वलित तेज से, छुपता हुआ नभ सूर्य था ।।

        है असत्य की मैं रोया नहीं, अपनों को मैंने खोया नहीं ।

        अभिमन्यु के संहार पर, द्रौपदी के लुटते न्यार पर ।

        रोया मैं सिसकी मार के, जग में बढ़े संहार पर ।।

        थी खोज मेरी अमरता, भगवान सा मैं बन चला ।

        मानव ठहर क्या कर रहा, भगवान मुझको ना बना ।।

        अब थक गया इस शोर से, मैं चाहता हूँ अब बूझुँ ।

        स्वाहा रूके, निर्भय पले, मन से ना कोई कठोर हो ।

        पर जोर है कुछ अनभला, वो सींचता जलती शिखा ।

        है उसके मन का अडिग स्वर, वो चाहता है मैं जीऊँ ।।

        युद्ध के इस भोग से, ईश्वर मुझे अब मुक्ति दे ।

        अस्तित्व मेरा ना रहे, वरदान दे, वो शक्ति दे ।

        हे दीनबन्धु, हे नीति-निधान, धरती मांगे है अभयदान ।

        धरती करुणा की प्यासी है, भागीरथ की अभिलाषी है ।

        चछु के पट अब खोलो तुम, हे नीलकंठ कुछ बोलो तुम ।

        हे गलमुण्ड घट-घटवासी, हे निर्विकार, हे अविनाशी ।

        जग का अंधियारा दूर करो, हे पूण्य प्रकाश, हे हिमवाशी ।।

    • नारी का प्रतिनिधित्व करती हुई द्रौपदी की प्रतिज्ञा, विलाप और चेतावनी देती हुई अति सुंदर और उत्कृष्ट रचना

    • Thanks, Geetaji. I have written many such poems (Hindi) and stories in English that elaborate the enormous grandeur and majestic beauty of Women. My stories also reflect upon the contribution and sacrifices women make for the greater good of society.
      Thanks again and do read my poem बिरहन की पुकार. If you type it in google you can have access to this poem.

    • बहुत खूब, उत्तम अभिव्यक्ति।

  • “वो अज़ीज़ भी हैं, वो नसीब भी हैं;
    दुनिया की इस भीड़ में दिल के करीब भी हैं;
    जिनके साथ से चलती है यह ज़िंदगी हमारी;
    वो खुदा भी हैं और हमारी तकदीर भी हैं।
    सुप्रभात!”

  • बेटियों का कल बेहतर बनाने को,
    आओ उनका आज संवारें।
    बेटी पर अभिमान करो,
    जन्म लेने पर उसका सम्मान करो।
    बेटी को शिक्षा का अधिकार दो,
    बेटी को भी बेटों जैसा ही प्यार दो।
    उसकी शिक्षा में करो कोई कमी नहीं,
    विवाह कर […]

  • अनुभव  के अतिरिक्त कोई आधार नहीं ,
    परमेश्वर   का   पथ   कोई  व्यापार  नहीं।
    प्रभु में हीं जीवन कोई संज्ञान  क्या लेगा?
    सागर में हीं मीन भला  प्रमाण क्या  देगा?

    खग   जाने   कैसे  कोई आकाश  भला?
    दीपक   ज […]

  • एक ऐसी ज़िन्दगी,
    जो किसी कला के साथ,
    एकान्त में जीना सिखा दे,
    स्वयं के लिए कुछ वक्त देना सिखा दे।
    प्रभु ने किया मुझे सम्मानित,
    एक ऐसी ही कला से
    जिसे लोग प्रभु का उपहार भी कहते हैं,
    लिख लेती हूं कुछ शब्द, क […]

  • धन उतना हो पास में
    जितने से हो शांति,
    उस धन से क्या फायदा
    मन में रहे अशांति।
    शांति नहीं गर जिगर में
    खो जाती है कांति
    उल्टा-सीधा धन कमा
    आ जाती है क्लान्ति।
    जीवन भर संचित करे
    खाऊंगा कल सोच,
    खाते समय उदर न […]

    • धन ही जीवन लक्ष्य है,
      इतना भी मत सोच,
      कमा स्वयं की पूर्ति को
      और शांत रख चोंच।
      *****कवि सतीश जी का धन और जीवन में सामंजस्य बिठाती बहुत ही उम्दा प्रस्तुति और अति उत्तम अभिव्यक्ति।

    • बहुत खूब

  • कागज़ की कश्ती लेकर,
    दरिया पार करने चल दिए।
    हम कितने नादान थे,
    अरे! यह क्या करने चल दिए।
    बचपन तो नहीं था ना,
    कि कागज़ की कश्ती चल जाती,
    भरी दोपहर में यह क्या करने चल दिए।
    दरिया बहुत बड़ा था,
    आगे तूफ़ान भी […]

  • कौन हमसे आगे निकल गया,
    कौन हमसे पीछे रह गया,
    केवल यही ना देखना मानव,
    देखना है तो यह भी देखना कि,
    कौन हमारे साथ है,
    जुड़ना बहुत बड़ी बात नहीं,
    जुड़े रहना बहुत बड़ी बात है।
    कौन छोड़ गया बीच राह,
    और किसने […]

    • कवि गीता जी की सुन्दर अभिव्यक्ति। अति उत्तम रचना

    • सुंदर समीक्षा हेतु हार्दिक धन्यवाद सतीश जी बहुत-बहुत आभार सर

  • दिल ही तो मांगा था

    कौन सी कायनात मांंग ली

    जो शब्दो में उलझा कर

    मेरे दिल को ताार तार दिया

    गुनाह तो नही प्यार करना

    जो मुुुझे तबाह कर दिया

    • कवियित्री नूरी जी की हृदय स्पर्शी पंक्तियां। मार्मिक अभिव्यक्ति

    • Thanku g pr mujhe lgta ha ki yha shayad log pdhne m km interested h s2 ya 3 logo se jyada koi padhta hi nhi

  • Load More

 सावन एक आनलाइन प्लेटफ़ार्म है, जहां एक कवि अपनी कविताओं को प्रकाशित कर सकता है, एक कवि की साशियल प्रोफ़ाइल के रूप में इसे जाना जाता है| यहां कवि अपनी कवितायें तो प्रकाशित तो करते ही है, साथ ही अन्य कवियों की कविताओं का लुफ़्त उठाते हुए, उनका आंकलन भी करते है|

आधुनिक कवियों को एक मंच उपलब्ध कराना ही हमारा प्रयास है, जहां नवीन प्रतिभाओं को उपयुक्त पहचान और सम्मान दिया जा सके। इसके साथ ही हम आधुनिक साहित्य की बिखरी हुई अनमोल रचनाओ का संकलन करना चाहते है ताकि अगली पीढ़ी इस अनमोल धरोहर का आनंद और लाभ ले सके|

आप सभी से अनुरोध है की हमारे इस प्रयास में अपना योगदान दे| अगर आप को लगता है की आप अच्छा लिखते हैं या आप अपने आस पास किसी भी व्यक्ति को जानते हो जो अच्छा लिखते हैं, उन्हें सावन के बारे में जरूर बताएं।

 सावन पर सत्यापित बैज verified badge के लिये अनुरोध करें|

सम्पर्क:  
+91 91168 00406
 connect@saavan.in