Ajay, Author at Saavan's Posts

आज़ाद हिंद

आज़ाद हिंद

सम्पूर्ण ब्रहमण्ड भीतर विराजत  ! अनेक खंड , चंद्रमा तरेगन  !! सूर्य व अनेक उपागम् , ! किंतु मुख्य नॅव खण्डो  !!   मे पृथ्वी भूखंड ! अति मुख्य रही सदा   !! यहा पर , सप्त द्वीप ! जॅहा पर , उन समस्त !!   द्वीप मे प्रमुख रहा  ! भारत का द्वीप सदा !! यहाँ पर , भारत को ! नमाकन कर सोने की !!   चिड़िया ,हिंदोस्ताँ व भारत ! की उपाधि दे डाली !! भारत मेरा प्रतिभाशाली रहा ! पृथ्वी के आरंभ से  !!... »