Anil, Author at Saavan's Posts

डरता हूं

बढती हुई कट्टर हिंदुओं की अराजकता पर कुछ लाइनें   अब बाहर निकलने से भी मैं डरता हूं अपनी गोल टोपी पहनने से डरता हूं कभी कहीं कोई गाय दिखाई दे तो झुका लेता हूं दूर से ही सर अपना मैं अपना सर कट जाने के डरता हूं महंगी दाल, शक्कर के जमानें में भी अब सस्ता मांस मैं खाने से डरता हूं बाहर का हूं या इस देश का समझ नहीं आता अब भारत को अपना देश कहने से डरता हूं »