Manjeet Singh's Posts

????आजादी मुबारक हो????

????आजादी मुबारक हो????

????आजादी मुबारक हो???? ???????????? तोते पिंजरे जैसी बोली, खूब बढ़ी आबादी है, पंछी के पर काट दिए है, ये कैसी आजादी है। आजादी ये रूला रही है अब भी भूखे प्यासों को, जाने क्यों ये भुला रही है अब भी भूखे प्यासों को,, आधी आबादी ये अब भी भूख-भूख चिल्लाती है, तन से मन से खाली रहती सब को ही झल्लाती है,, हमने सूखी चिंगारी से, डरते कोई देखा है, हमने एक निवाले खातिर, मरते कोई देखा है,, जन गण मन में बसने वाले... »