Papa ki chaya mein

अपनी इच्छाओं को दबाते चले गए मेरे सपनो को अपना बनाते चले गए मुझे कभी अहसास भी नही कराया कि वो अपने ख्वाब छुपाते चले…

New Report

Close