Psladpura Pilibhit

  • Photo per ekadam satik baithati Hui Rachna
    Jaisa photo hai hai Usi Prakar ki Rachna Hai photo ke एक एक pahlu ko bahut hi Dhyan Mein Rakha gaya hai

  • कालचक्र ने लिखा था एक रोज़
    रेत पर उंगलियों के पोरों से,
    वह हस्तलेख मिट गया
    सागर की लहरों के थपेड़ों से…
    स्वागत है कर जोड़कर २०२१,
    खूँटी पर अब टाँग दी
    वैमनस्यता भरी कमीज…
    वाह वाह क्या बात है
    आपके लेखन की मिसाल देनी चाहिए
    इतना सुंदर लेखन शिल्प तथ्य तथा अलंकारों का तथाकथित उचित प्रयोग के साथ-साथ नव वर्ष के उपल…[Read more]

  • आज पहली बार मैं सावन के मंच पर आया हूं मुझे बहुत ही खुशी हो रही है साहित्य के लिए
    सावन की इतनी बड़ी पहल काबिले तारीफ है आपके द्वारा लिखी गई रचना मुझे बेहद पसंद आए इस रचना का एक एक शब्द एक एक पंक्ति साहित्य से भरा हुआ लग रहा है और आपका संदेश मेरे मन को छू रहा है
    आप यूँ ही
    सुंदर सुंदर कविता लिखते रहे और साहित्य की सेवा करती रहिए
    आपकी कविता पर इ…[Read more]