अपने कण कण को

अपने कण कण को बस तराश रहा हूँ
तेरे जर्रें -जर्रें को बस तलाश रहा हूँ
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close