गर बंद आँखों से

गर बंद आँखों से ही तेरा दीदार हो
ख़ुदा ऑंखें खुलने की सजा न दे
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close