जो रूठा ही नहीं है उसे मनाये कैसे।

जो रूठा ही नहीं है उसे मनाये कैसे।
तुम्हें जिंदगी लिखा था मिटाए कैसे।।
@@@@RK@@@@

Related Articles

Responses

New Report

Close