शेर-ओ-शायरी

गमे-फुर्सत

गमे-फुर्सत जब से मिली बड़ा बेफिक्र सा रहता हूं, अब तो जहान बड़ा खूबसूरत लगता है और अनगिनत ख्वाबों को सच करता रहता हूं। »

रो लेता हूँ

इस बंजर-सी धरती पर कुछ अश्कों के बीज बो लेता हूँ। जब जब तुहारी याद आती है तो छुप छुप के रो लेता हूँ।। »

कभी-कभी

कभी कभी हम किसी को कुछ ऐसा कह देते हैं कि कहने के बाद पछताना पड़ता है बड़ी तकलीफ होती है ऐसे शब्द मुंह से निकालने के बाद बड़ा अफसोस होता है अपनी गलती पर। »

खुशी और गम

किसकी की किस्मत है जो बस खुशियां ही खुशियां पाए खुशी और गम तो धूप और छांव की तरह जिंदगी के हर कदम पर आते जाते ही रहते हैं आज खुशी है तो कल गम का अंधेरा भी छाएगा। »

निष्ठुर

निष्ठुर है क्यों ये जहान मेरा कभी भी गम के सिवा कुछ दिया ही नहीं । »

वो तेरे समतूल नहीं

कौन कहता है बहार- ए-चमन में फूल नहीं। हैं तो बहुत प्रीतम मगर वो सब तेरे समतूल नहीं।। »

रिश्तो के झमेले

अकेला होता है जहान में हर कोई बस रिश्तो के झमेले होते हैं जिंदगी गुजारने को कुछ ख्वाब ही जरूरी होते हैं »

तुम्हें कोई फिक्र

तुम्हें तो कोई फिक्र ही नहीं बेपरवाह घूमते हो यहां दिन-रात गुजरते हैं बस तुम्हारी फिक्र में »

बेचैनियां

बेचैनियां बटोर के सारे जहान की खुदा ने मेरा दिल बना दिया और खूबसूरती कल्पनाओं की मेरे मुकद्दर में डालकर मुझे शायर बना दिया। »

तंबाकू

तंबाकू खाने से होता है टीवी कैंसर इसलिए इसे खाना करो आज से कैंसिल »

तंबाकू निषेध

तंबाकू निषेध दिवस है आज आज प्रण करो तंबाकू सेवन मत करो वरना सब लुट जायेगा तेरी तलब ही तेरे मौत का कारण बन जाएगी »

Dil

Love »

मैं तो

सच है तुम्हरा इरादा भी मगर मैं तो इश्क के बगैर जी ही नहीं सकता। »

ए ज़िन्दगी!!

लड़ाई किस्मत से है तुझसे नहीं ए ज़िन्दगी! तू परेशान बेकार होती है । »

जब हमें तुम याद आये रात भर

जब हमें तुम याद आये रात भर आंसुओं ने ग़म बहाये रात भर। ख़्वाब कितने ही सजाये रात भर जिनको चाहा वो न आये रात भर। एक सूरज ढल गया जब शाम को चांद तारे मुस्कुराये रात भर। कल मुझे इक फूल पन्नों में मिला दिन पुराने याद आये रात भर। जिनके प्रियतम दूर थे परदेस में चांदनी ने दिल जलाये रात भर। कहते हैं जो किस्मतों का खेल है ख़्वाब उनको क्यों जगाये रात भर। »

जब हमें तुम याद आये रात भर

जब हमें तुम याद आये रात भर आंसुओं ने ग़म बहाये रात भर। ख़्वाब कितने ही सजाये रात भर जिनको चाहा वो न आये रात भर। एक सूरज ढल गया जब शाम को चांद तारे मुस्कुराये रात भर। कल मुझे इक फूल पन्नों में मिला दिन पुराने याद आये रात भर। जिनके प्रियतम दूर थे परदेस में चांदनी ने दिल जलाये रात भर। कहते हैं जो किस्मतों का खेल है ख़्वाब उनको क्यों जगाये रात भर। »

जमाना

अब मैसेज से ही काम चलाना। यही कहे आज कोरोना जमाना।। »

दिल ए नादान

संभल संभल दिल ए नादान। यहाँ कोई नहीं इश्क़ ए क़द्रदान।। »

यही कहते है

पागल, आवारा, लोफर, दीवानापन, यही इनाम मिला है मुझे। कागज की किश्ती दरिया में नहीं चलती, यही कहते हैं वो मुझे।। »

शायरी

यूँ ना बुलाओ करके नजर के इशारे इस दिल पे तो डाका पर जाएगा। भला तुम्हारा क्या बिगड़ेगा मेरा सब कुछ लुट जाएगा।। »

खाश

ज़िन्दगी में गर किसी को, कोई खाश नहीं रहता। किसी को आज किसी का, इंतजार ही क्यों रहता।। »

तुम्हारे भोलेपन

तुम्हारे भोलेपन से हीं मुझको बहुत प्यार है। वरना इस दुनिया में दिल लगाने को बथेरे यार हैं। »

Jindagi

Jindagi ki raho me kahi to daga kha gaye ham , jaha se chale the fir wahi aa gaye ham.🤔 »

शायरी

पर्वत से निकली खिल-खिल गंगा सागर में जाकर शांत हो गई। जान गई जंजाल में तो उड़ती चिड़ियाँ भी शांत हो गई।। »

कुदरत की परेशानी

ना छेड़ कुदरत को कुदरत परेशान हो जाएगी। इसकी परेशानी के संग संग तेरी जान जाएगी।। »

हम बीमार हो गए

कुदरत के संग बदफेली के खुद हीं हम शिकार हो गए। आबोहवा संग धरती भी तो दूषित हो गई और हम बीमार हो गए। »

किस ओर

सीडियाँ अनगिनत चढ़नी पड़तीं हैं, जब पानी होती है इश्क की मंज़िल । »

किस ओर

किस ओर गया मेरा सुकून फकत इतना-सा बता दे कोई, दिन-रात आगोश में रहता हूँ बेचैनी के । »

दिल ए नशाद!

ले गया दिल ए नशाद! मुझे जाने कहाँ , जब एक निगाह उसने कर दी मेरी तरफ। »

दिल ए नशाद!

ली गया दिल ए नशाद! मुझे जाने कहाँ जब एक निगाह उसने कर दी मेरी तरफ »

रहने देंगे

रहने देंगे हम तुम्हें लोगों के करीब तुम खुमार में रह लो थोड़ा शरीक »

जैसा कहिये

जैसा कहिये वैसा करिये ऐसे लोग जहां में कम ही होते हैं अपनी कथनी और करनी में जो कोई फर्क न करे ऐसे लोग बड़ी मुश्किल से मिलते हैं »

कफ़न

ए मेहज़बी , दिलनशी , मेहक़शी , ए गुलबदन । नजरे चार हो उससे पहले ले आए अपनी कफ़न ।। »

फ़िदा

उनका महकना भी एक अजीब अदा है। इसलिए तो हर शायर उन पर फ़िदा है।। »

ज़हरीली नागन

ए ग़ालिब जरा जरा देख तो सही, कहीं वो वही बे -वफा तो नहीं। जो कभी दिल के बदले दर्द दिया था, कहीं वो वही ज़हरीली नागन तो नहीं।। »

जवानी

माना अपनी जवानी पे जोड़ नहीं। फिर भी हम किसी से कम नहीं।। »

प्रेम का आगोश

नजरों से बातें होती है और जुबान खामोश है। अजीब सी दुनिया है ये मधुर प्रेम का आगोश है ।। »

बरखा रानी

तन मन 💕 में आग 🔥लगाए ए जलता पानी। जरा थम थम के बरस ए बरखा रानी । । »

बयार

पूरब से बही सावन के बयार। झूम के आयी बरखा बहार।। »

इबादत

तेरी यादों में डूबी रहती हूँ , तेरे इश्क को ही मैं इबादत कहती हूँ । »

सावन के बूंद

सावन के एक एक बूंद गिरा जो मेरे होंठों पे। कैसे बयां करू अपनी उल्फतें दासतां सुर्ख होंठों से।। »

सिस्कियाँ लेता रहा मैं

सिस्कियाँ लेता रहा मैं उसकी याद में रात भर वो पानी पी-पीकर हिचकियाँ लेती रही । »

माँ मैं तेरे बिन

अकेला रह जाऊँगा माँ मैं तेरे बिन तू छोड़ कर ना जाना मेरा दामन »

वापस आया तो

जब पहुँचा था उनसे मिलने मैं बड़ा जोश में था , वापस आया तो लुटी हुई दुनिया लेकर । »

धरती यह बोले

यह धरती बोले काँटे मत बोना हे मानव! फूल ही फूल उगाना बन कर महक तू हर ह्रदय को महकाना »

थोड़ी मोहलत

खुदा! अगर थोड़ी मोहलत और दे मुझे तो मेरी तकदीर में कितनी मोहब्बत लिखी है देखना चाहती हूँ मैं । »

Geet

Geet ban kar gungunauga mai tumhare kaano me »

लाखपति कोरोना

तुम लाखपति हो गए कोरोना आखिर मेरे भारत में। हम मध्ययबर्गी मिल गए देखो आज कितने गारत में।। »

दिल का जहान

जीत कर दिल का जहान हार गया सब कुछ खुश बहुत हूँ मगर खुद से हैरान बहुत हूँ मैं । »

मोक्ष की माया

तेरी मोक्ष की माया को समझें हम इतने सक्षम नहीं भगवान जब मानव थे तो हमने हरि जब मोक्ष मिला तो हरी में हम »

Page 1 of 47123»