शेर-ओ-शायरी

भोर

अंधेरों में इतना कहाँ जोर है । आ रहा है सूरज हुआ भोर है।। »

कभी तो

कभी तो इन गलियों में आकर तो देखो, माना बहुत अन्धेरा है । शायद तुम्हारे आने से मेरा जहान रौशन हो जाये। »

प्यार

ढ़लते दिसंबर के साथ इश्क़ भी तेरा ढ़ल गया। तू तो कहता था कि बिना मेरे तेरा मन कही नही लगता…. अब तू बता कि वो तेरा प्यार कहाँ गया? »

हीरा की तरह

तु दिखी मुझे हीरा की तरह, हुआ प्यार मीरा की तरह, मिले हम सरफिरा की तरह, बाप तेरा खा गया खीरा की तरह, मैं पेट में बना पीड़ा की तरह, उसने निकाल दिया जलजीरा की तरह। »

मेरा प्यार

तुम मेरे पास रहो या रहो मुझसे दूर। मेरा प्यार कम न होगा करुँगा भरपूर।। »

ये मौसम सुहाना

ये मौसम सुहाना फिजा भीगी तेरी यादें हैं छायी काले बादल हों जैसे। »

आदत

हमारी आदत नही है यूं ही किसी की तारीफें करना तुम हो ही इतने अच्छे की हम शायर हो गये। »

खुशियाँ

अब तो बन गई किस्मत जब से मिल गयीं ख़ुशियाँ »

Tumhe Aur Tumhari Yaadein

Apni khaamiyo ka harzaana bhar Kar, Un par kaam kar rahi hu main… Tumhe aur tumhari yaadein bhula Kar, Ab aage badh rahi hu na main… ❤ #Sheetal »

महफ़िल

संवर कर आऊँगा जब तुम्हारी महफिल मे, निगाहें तुम्हारी सिर्फ मुझ पर ठहर जायेगी। देखेंगे जब सब तुम्हारे होठो पर हल्की-सी हँसी, महफ़िल मे हमारी मोहब्बत ही चर्चा बन जायेगी।। »

Page 1 of 176123»