पैमाना

न जाने किस पैमाने में तोला करते हैं वो मोहब्बत,
लुट गए उनकी वफ़ा में फिर भी न क़ाबिल-ऐ-ऐतबार ही रह गए…

Related Articles

Responses

New Report

Close