रुबाई

जुस्तजू जिसकी थी वो मिला ही नहीं

अब ख़ुदा से भी कोई गिला ही नहीं

दर्द के नूर से रूह रौशन रहे

इसलिए ज़ख्म दिल का सिला ही नहीं

कविता सिंह

Related Articles

यादें

बेवजह, बेसबब सी खुशी जाने क्यों थीं? चुपके से यादें मेरे दिल में समायीं थीं, अकेले नहीं, काफ़िला संग लाईं थीं, मेरे साथ दोस्ती निभाने…

सम्बन्ध

रिश्तों की डोर मे मजबूरियों का यह क्या सिला है, अपनों के बीच यह कैसा नफ़रत का फूल खिला है गुलिस्तां महकता था कभी जिनकी…

Responses

New Report

Close