शब्द

कुछ खो के लि खा…

कुछ पा के लि खा

हमने इस कलम को…

अक्सर आँसुओं में डुबो के लि खा

कभी मि ली नसीहत…

कभी वाह-वाही मि ली

हमने अपने ग़मों को…

अक्सर शब्दों में संजो के लि खा

Related Articles

स्वछंद पंछी

मुक्त आकाश में उड़ते स्वछंद पंछी आह स्वाद आ गया कहकर, वाह क्या जिंदगी कोई मुंडेर, कोई दीवार, या कोई सरहद देश की सब अपने…

कुछ नहीं

हमें आता जाता कुछ भी नहीं, सिर्फ शब्दों में खेल रहा हूं| परिणाम का हमें कुछ पता नहीं, मीठा खट्टा बोल रहा हूं| शब्द आन…

Responses

New Report

Close