Kavi Manohar, Author at Saavan's Posts

Kya khoya kya paaya

Kya khoya kya paaya hamne, Kaise jiya jindagi ko hamane Khote khote rahe khud me him  Har roj kaise khud ka katl kiya hamne Kis tarah »

Kya baat hui

Kya baat hui, kuch khabar nahi mujhe Me to bas, kho gay tha unki aankho me kahin. »

जिंदगी

जल रही है जिंदगी हर रोज यहां बिखर रही है, मिट रही है हर रोज हो रहा है दमन मर रही है हर रोज जिंदगी जीने की आस लेकर »