Kya khoya kya paaya

Kya khoya kya paaya hamne,

Kaise jiya jindagi ko hamane

Khote khote rahe khud me him 

Har roj kaise khud ka katl kiya hamne

Kis tarah

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Panna - August 24, 2016, 4:24 pm

    nice

Leave a Reply