vishal nayak, Author at Saavan's Posts

हम ना बदल पाएँ

मुस्किल हुआ दिल को समझाना मुस्किल हुआ रूठोंं को मनाना कितना बदल गया ये ज़माना पर हम ना बदल पाएँ पर हम ना बदल पाएँ तुझसे बिछड़ के ज़िंदा हूँ ये मेरी फूटी किस्मत है मिले दो दिल तो जुदा कर देना ये दुनियाँ की फितरत है मुझसे जुदा होके सम्हल गए तुम पर हम ना सम्हल पाएँ कितना बदल गया ये ज़माना पर हम ना बदल पाएँ »

मेरी जिंदगी

मेरी जिंदगी अब उलझ गई मेरी हर खुशी अब बिखर गई २ अब क्यों मैं करू किसी से गिला जो था किस्मत में वही तो मिला जो…….था किस्मत में …….वही तो मिला . . . इस दुनियाँ से कुछ ना चाहूँ मेरे रब से बस इतना पूछना चाहूँ मेरा रब क्यों तु मुझसे रूठा लगे मेरा हर सपना अब टूटा लगे मैं गाऊँ अगर कोई गीत तो सब झूठा लगे मेरी जिंदगी अब उलझ गई मेरी हर खुशी अब बिखर गई मेरी हर खुशी अब ……..... »

मेरी जिंदगी

मेरी जिंदगी अब उलझ गई मेरी हर खुशी अब बिखर गई २ अब क्यों मैं करू किसी से गिला जो था किस्मत में वही तो मिला जो…….था किस्मत में …….वही तो मिला . . . इस दुनियाँ से कुछ ना चाहूँ मेरे रब से बस इतना पूछना चाहूँ मेरा रब क्यों तु मुझसे रूठा लगे मेरा हर सपना अब टूटा लगे मैं गाऊँ अगर कोई गीत तो सब झूठा लगे मेरी जिंदगी अब उलझ गई मेरी हर खुशी अब बिखर गई मेरी हर खुशी अब ……..... »