by Pragya

मोहब्बत बिमारी या शिकार

September 10, 2019 in हिन्दी-उर्दू कविता

तबाही का मंज़र इस कदर देखा हैं_
रूह गुम रही जिस्म बेजान देखा हैं_
कोई तफ्तीश करों मोहब्बत की यारों की
वो दिवानों को बिमार करती हैं या शिकार_
-PRAGYA-

by Pragya

ढलती उम्र का प्यार

September 10, 2019 in हिन्दी-उर्दू कविता

क़ातिब बन इस दिल ने तुझे लिखा हैं मुकद्दर में_

क्यूँ एक उम्र बित जाने के बाद_?

-PRAGYA-

by Pragya

हसीन मुलाकात

September 10, 2019 in हिन्दी-उर्दू कविता

वो ज़िन्दगी का सबसे हसीन मोड़ था
जब तुझसे रूबरू हुए_

धड़कने काबू में नहीं थी
नज़रें तुमसे मिलने को बेक़रार थी
इख़्लास बेइंतहा इस दिल को तुमसे कुछ इस मानिंद हुए_

एक – एक लफ़्ज़ तेरा ज़िन्दगी बन गया
कुछ इस जुनून-ए-हद तक हम तेरे दिवाने हुए_

-PRAGYA-

New Report

Close