आपकी छवि

सर्दियों में धूप मनको
जिस तरह प्यारी लगे ।
आपकी छवि व्यथित मन को
परम सुखकारी लगे ।
मौन रह.अनकही बातें ,
शेष कहने को रहीं ।
जिस जगह से भी गुजरते ,
आप मिल जाते वहीं ।

मुसकराहट मन चुराती ,
कल्पना हो आपकी
क्या पता कब याद आएँ ,
याद बनजारी लगे ।

दर्द भी कैसा दिया है ,
अब दवा लगने लगा ।
आगमन की आस में ,
मन जागरण करने लगा ।
द्वार पलकों के न इक पल,
बंद हो पाते कभी ,
चिर प्रतीक्षा की घड़ी ,
अब ,और भी भारी लगे ।
आ गए वे ,पलक वंदरवार से ,
सजने लगे ।
विपिन से एकांत मन में ,
वाद्य से बजने लगे ।
अश्रु आँखोंके पुलकने -किलकने
अब लग.गए ,
अश्रु की धारा नहीं अब,
तनिक भी खारी लगे ।
ढल गए वे दिवस निर्दय –
नाग से डसने लगे ।
आँख ने आँसू छिपाए ,
पर अधर हँसते रहे ।
मिलनकी बेला , उमंगों की,
हृदय में उर्मियाँ ।
इन क्षणों में , चिर विरह की ,
आज लाचारी लगे ।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. अनुपम उपमाओं से परिपूर्ण कविता…सचमुच मन को भा गयी| हमारे साथ शेयर करने के लिए शुक्रिया|

New Report

Close