इश्क-ए-खुदाई – 4

इश्कखुदाई

भी कैसा सौदाई है

ख़ुद को ख़ुद में ख़ुद ही

क़ैद दिलाई है

Related Articles

Responses

New Report

Close