उनके जुमलों से

उनके जुमलों से आती है बूँ जलन की
हमने देखी है कुछ ताप उस अगन की
फाकामस्ती भी कोई  जागीर से कम नहीं
 लुत्फ़ उगते नहीं बदनसीबी है चमन की
                    राजेश’अरमान’

Related Articles

हम लुत्फ़ कुछ

हम लुत्फ़ कुछ बारिशों का यूँ उठा रहे है अपने आंसुओं को बारिशों में छुपा रहे है उसी को याद करना और हमेशा याद रखना…

प्रार्थना।

त्रिविध ताप कर शमित हमारे भोले शंकर। राह कठिन, मंजिल भी धूमिल, पैरों में छाले, उजड़ा दिल। आज हमें दर्शन दे देखूँ तुझको जी भर।…

Responses

New Report

Close