उसने ख़ामोशी को भी चीखते

उसने  ख़ामोशी को  भी चीखते देखा  
रंजिश हुई जब क़ल्ब के शोर से
                 राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close