एक ढहती हुई ईमारत

एक ढहती हुई ईमारत की ईट से बढ़कर न सही लेकिन
ईमारत की नीव भी कभी इसी ईट ने ही रखी थी
राजेश’अरमान’

Related Articles

यादें

बेवजह, बेसबब सी खुशी जाने क्यों थीं? चुपके से यादें मेरे दिल में समायीं थीं, अकेले नहीं, काफ़िला संग लाईं थीं, मेरे साथ दोस्ती निभाने…

मां

खामोशी को समेटकर कुछ अल्फाजो का पिटारा लाया हूं, उस ख़ुदा से भी बढ़कर है वो जिसके बारे में आपको कुछ बताने आया हूं। उसकी…

Responses

New Report

Close