ओ मेरे हमसफर

मेरे हमसफर जो साथ हो मेरे जिंदगी भर के लिए,

कभी दुःख में, कभी सुख में हमेशा साथ रहे मेरे,

एक दुसरे का साथ हो तो अच्छा या बुरा वक्त भी गुजर जायेगा..

पर कोई ऐसा हो अपना, जो कभी ना बदले जिंदगी में,

चाहे जैसा भी हो सफर..

ओ मेरे हमसफर हमेशा मेरे साथ रहना जिंदगी-भर,

चाहे मुझ से प्यार करो या ना करो पर मेरी माँ की हमेशा इज्जत करना,

और मेरे परिवार से बहुत प्यार करना.

तुम मुझे अपनाये या ना अपनाये मेरी शरारतो और नखरे के संग,

पर मेरे साथ हमेशा खड़े रहना हर पल,

तुम हंस पडना मेरी नादानियो पर,

जो समझाये मुझे प्यार से मेरी गुस्ताखियो पर,

अपना समझें मेरे हर नूकस और खूबी को,

चाहे जैसी हो हरकते मेरी,

मेरा साथ निभाये उमरभर..

एक हमसफर, एक हमसफर

एक हमसफर, एक हमसफर!

जिंदगी के पन्ने लिखते लिखते, आयेगा एक मुकाम ऐसा भी,

के अब थक चुकी होगी मैं भी..

अब ना ज्यादा पन्ने बचे होंगे,

ना हाथो मे कलम पकडने की ताकत,

उस वक्त भी जो बने रहे मेरी लाठी,

जो बने रहे मेरा जीवनसाथी..

एक हमसफर, एक हमसफर!

एक हमसफर, एक हमसफर!

जो हंस पडे मेरे सुरखींयो भरे चेहरे को देख कर,

जो सुकून पाये मेरे थरथराते हाथ देखकर,

चाहे जैसे भी हो हालत मेरी,

वो चाहे मुझे हद से बढकर,

जो साथ निभायेगा मेरा जिंदगी भर..

एक हमसफर, एक हमसफर!

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. ashmita - August 22, 2019, 2:52 pm

    Nice one Anu

  2. Anu Mehta - August 28, 2019, 2:25 pm

    thank u ji

Leave a Reply