कलम से लिख दूँ

कलम से लिख दूँ नाम जो सरेआम हो जाए,

ऐसा कोई नहीं है जो फिर अब्दुल कलाम हो जाए,

गीता और कुरान को जो रखते थे मन में,

ऐसा कोई नहीं जो अब मिसाइल मैन हो जाए,

शिक्षा को सफलता का गुण बताये,

बच्चों से खुल के जो प्यार लुटाए,

ऐसा कोई नहीं है जो अब कलम का कलाम हो जाय॥

– राही (अंजाना)

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

A pray for india

जब तक है जीवन तब तक इस की सेवा ही आधार रहे विष्णु का अतुल पुराण रहे नरसिंह के रक्षक वार रहे हे प्राणनाथ! हे…

Responses

  1. Добрый день!У моего мужа на УЗИ обнаружены 2 камня в ЖП. Один 15 мм и другой 5мм. Слышала, что при одиночных камнях их можно удалять ѻѐÂÂьƒ‘‚ÃÀазвуком. Проводите ли Вы такое лечение?

New Report

Close