काश मैंने तुमको पहचाना होता

काश मैंने तुमको पहचाना होता!
मेरे नसीब में मेरा मुस्कुराना होता!
कभी बेवसी न होती हालात की मुझको,
ज़िन्दगी जीने का मुझको बहाना होता!

Composed By #महादेव

Related Articles

Responses

New Report

Close