कोई तो फर्क नज़र आता है

कोई तो फर्क नज़र आता है
जब अंधेरों में जुगनू  जगमगाता है
               राजेश’अरमान’

Related Articles

नज़र ..

प्रेम  होता  दिलों  से  है फंसती  नज़र , एक तुम्हारी नज़र , एक हमारी नज़र, जब तुम आई नज़र , जब मैं आया नज़र, फिर…

Responses

New Report

Close