गैरों के हम तो

गैरों के हम तो गुनाहगार हो गए ,
जब उनके नाम का कोई सितम न मिला
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close