जब अपनी ही

जब अपनी ही साँसें एहसान जताने लगे
समझ लो साँसें भी अपनी हो गई है
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close