जापान से बुलेट ट्रेन लाने की ज़रूरत नहीं है

जापान से बुलेट ट्रेन लाने की ज़रूरत नहीं है
बुलेट ट्रेन हम भी बना सकते हैं
और चला सकते हैं

अगर जापान से कुछ लाना ही है
तो उनकी आदतें लाई जाएँ
उनकी सांस्कृतिक सौगातें दिखाई जाएँ
उनकी कार्यसंस्कृति अपनाई जाए
वैज्ञानिक प्रवृत्रियों का आयात हो
सिर्फ जुमलों में न बात हो
सामंती आदतों पर प्रतिघात हो

उस देश से कुछ सीखा जाए
जिस देश ने युद्ध की विभीषिका को सहा
जो देश परमाणु अस्त्रों की आग में जला
फिर उठ खड़ा हुआ
विकास को मिशन बनाया
इंफ्रास्ट्रक्चर को खड़ा किया
मेहनत और अनुशासन से
ईमानदारी के शासन से

ये पता नहीं
विश्व गुरु कौन था
पर जापान के समतामूलक समाज से कुछ सीखकर
जाति और सम्प्रदाय को जीवन से खींचकर
सामूहिकता की परिधि के भीतर
व्यक्तिगत ज़िम्मेदारियों को केंद्र में रखकर
टीम वर्क पर विश्वास करने से
पूरा भारत दौड़ेगा
आत्मविश्वास की बयार से
बुलेट ट्रेन की रफ़्तार से

जहाँ तक बात पैसों की हैं
वह भी आ जाएंगे
बस भ्रष्टाचार के गटर को बंद कर दिया जाए
व्यक्तिगत महत्वकांक्षाओं को तनिक छोड़ दिया जाए
जब पद व्यक्ति को नहीं खा जाएगा
जो जितना ऊँचे पहुचेगा
वह उतना झुकता जाएगा
तभी देश का सही मायने में विकास होगा

हवाई ज़हाज़ भी बनेगा
बुलेट ट्रेन भी चलेगी
और देश का हर हिस्सा
हर व्यक्ति
सही में फूलेगा फलेगा ।

तेज

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in New Delhi, India

2 Comments

  1. Panna - April 25, 2016, 5:42 pm

    umda!!

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 5:15 pm

    जापान से आदतें लाई जाये बहुत सुंदर

Leave a Reply