तुझसे

मेरी रैना की शुरुआत है तुझसे
इन नैनन की बरसात है तुझसे
तुम जो दो मीठे बोल भी दो
हर दर्द कबूल मुझे, जो मिले हैं तुझसे

Related Articles

O raina tujhe mai kya kahu

ओ रैना, तुझे मैं क्या कहूं? रात कहूं, रैना कहूं या निशा कहूं, मिलता है दिल को सुकून, साये में तेरे, मिट जाती है सारी…

मन की पतंग

मीठे मीठे सपने संजोने दो होता है जो उसे होने दो कल का पता नहीं क्या होगा बाहों में और थोड़ा सोने दो ।……….. जागी…

Responses

New Report

Close