Other

विनती

कहर कोरोना का छाया है देखो आज संसार में। त्राहि त्राहि कर रही है दुनिया आओ प्रभु अवतार में।। रक्तबीज का रक्त धरा पर टपक दैत्य बन उत्पात किया। कतरा कतरा पीकर काली दुष्ट दैत्य का घात किया।। वही वक्त है आया माता जग की रक्षा फिर आज करो। ‘विनयचंद ‘की विनती माता सुनो जगत में फिर फिर राज करो।। »

कोरोना मार भगाना है

कुछ दिन रहेंगे घर में आइशोलेट। नहीं करेंगे बाहरी दुनिया से हम भेंट।। मुख पर मास्क हाथ दस्ताना। फिर भी नहीं कोई हाथ मिलाना। धोओ हाथ करो सेनेटाईजर। हल्दी तुलसी सेवो अक्सर।। सूझबूझ और धैर्य से रहकर खुद को कोरोना से बचाना है। अपने संग-संग निज समाज महामारी मुक्त बनाना है।। स्वस्थ समाज और स्वस्थ राष्ट्र दुनिया सुखी बनाना है। ‘विनयचंद ‘सब मिलकर मित्रों कोरोना मार भगाना। है »

बीती शामें

दिल कोई तहखाना है जिसमें दफन हजारों यादें हैं कुछ खट्टी हैं कुछ मीठी हैं बीती शामो की बातें हैं »

दो शब्द

एकता की खुशबू जब महकती तो सारी दुनिया चहकती है आओ एक काम करें आज का दिन देश के नाम करें। »

गौरैया

20 मार्च यानी गौरैया दिवस …. आज तुम्हारा दिवस है प्यारी गौरैया ,कहने को तुम घरेलू चिड़िया कहलाती हो लेकिन स्वार्थी मनुष्यों ने तुम्हें घर से बेघर कर के पेड़ों पर भी अपना स्वामित्व जता दिया है आज नि:शब्द सी तुम निराझार से तुम्हारे भाव हम संवेदनाहीन मनुष्यों से एक ही सवाल पूछते हैं कि “कहां जाएं हम ?”😞 »

जागरूकता ही बचाव है

यह दौर गुजर जाएगा इस वैश्विक आपदा के बावजूद हम इस पर विजय पाने में कामयाब अवश्य होंगे। भरोसा रखिए हमारे डॉक्टर कोविड -19 का इलाज और वैज्ञानिक निश्चय ही इसका मूल कारण खोज लेंगे तब तक एक जिम्मेदार व्यक्ति बनिए स्वयं और बाकियों की सुरक्षा सुनिश्चित करिए👍 स्वस्थ रहे सुरक्षित रहे 🙏 »

कैरोना

ये वाईरस कैरोना का बना महामारी भयंकर है। दिखे उपाय बचने का स्वच्छ और शुद्ध जो नर है।। रखो सब पे सहानुभूति पर रहना सबसे बचकर है। धोकर हाथ रहना सब मिलाना हाथ ना कोई। खुद को दूर रख इतना छींकता खाँसता हो कोई।। मिले ना संग औरोँ का तुम्हारी सांस सांसों से। कैरोना दूर भागेगा सकल संसार रासों से।। यही संकल्प है बन्धु। यही विकल्प है बन्धु।। »

अब बहुत हो गया

अब बहुत हो गया लेती हूँ मैं विदा कल फिर लेकर आऊंगी कुछ अल्फ़ाजों की लड़ी प्रीत से भीग जायेगा तन-मन तुम्हारा लग जायेगी आँसूओं की झड़ी। »

उधार

गजब का फ़ितूर है मेरे दिमाग मे भी, कौन मिलता है यहाँ उधार लेने के बाद भी।। »

Gair

आदत नही है कि हर पल मनाये मुझे कोई। पर अच्छा नही लगता गैर जताए मुझे कोई। »

INQUIRY

HINDI MAIN POST KAISE HOGA, PLEASE JISE MALOON HO BTA DE »

कोरोना वायरस

तेरा नशा कोरोना वायरस की तरह फैल तो गया तू दिल में बिन बुलाए मेहमान की तरह आ तो गया मगर कान खोल कर सुन ले मेरा प्यार कैंसर है मरने के बाद ही जायेगा । »

घर

‘यह कैसा घर है! कि- जिस में एक भी झरोखा नहीं’ दहलीज़ पर खड़ी हवा बोली। सुनो कुछ देर को मुझे अंदर आने दो- यहां बाहर बड़ी घुटन है। »

बहुत पछताओगे

अब ना हम आयेंगे ना हमारा निशान पाओगे हमें खो कर ओ बावरे तुम बहुत पछताओगे »

भलाई

बन्दर पान चबाता है और भैंस जलेबी खाती है आज के युग में ऐसा ही है भलाई मारी जाती है »

हतास

आज बहुत हतास हुई हूँ हमेशा ऐसा ही क्यूँ होता है मेहनत करते हैं हम पर औरों को फायदा होता है »

तुम्हारा इन्तज़ार है

तुम्हारा इन्तज़ार है कब आओगे तुम्हारे इन्तज़ार में कोरे बैठे हैं । »

कल मुलाकात

कल मुलाकात उनसे होगी खुशी है बहुत कुछ गुफ्तगू भी होगी उम्मीद करती हूँ »

जब भी मैं

जब भी मैं मंदिर जाती हूँ बस यही इल्तिजा करती हूँ भगवान सबका भला करे और शुरुआत हो हमसे। »

होरी

धूम मची है आज व्रज मेँ बरसाने मेंं थोड़ी। आजा मेरे मोहन प्यारे खेलन हमसे होरी ।। »

नारी का तू कर सम्मान

मातृशक्ति को समर्पित नारी का तू कर सम्मान। नारि बिना ये जगत मशान।। नारि है विद्या नारि है बुद्धि धन दौलत की नारि है खान।। नारी का सब कर सम्मान। नारि बिना ये जगत मशान।। »

हम तो बस

हम तो बस अपने हुनर की नुमाईश करने में लगे हुए हैं आपको कुछ गलतफहमियां हैं दूर कर लें। »

खंजर

देख लिया जमाने के तसव्वुर को होठों पर मुस्कान और दिल में खंजर लिए घूमते हैं…….. »

और कितनी आजादी चाहिए?

आ तो गई रंग भरी होली मगर कुछ अराजक तत्व अभी भी पथ्थर फेकने में लगे हुए हैं आ तो गया फागुन का वलेंटाइन मगर कुछ लोग आजादी मागने में लगे हैं भारत जैसे देश में और कितनी आजादी चाहिए? कुछ आग लगाने में लगे हैं कुछ आग बुझाने में लगे हैं । 🇮🇳जय हिंद जय भारत 🇮🇳 »

काबिलियत

जाकर कहदो उनसे अपनी काबिलियत के चर्चे कहीं और सुनाए जाके अभी हम थोड़े नाकाम से हैं ……… »

जिंदगी में रंग

रंग भर लीजिए जिंदगी में क्योंकि रंग उड़ाने के लिए लोग हैं थोड़ा हंस लीजिए जिंदगी में क्योंकि रुलाने के लिए लोग हैं आजाद हो जाइए जिंदगी में क्योंकि कैद करने के लिए लोग हैं ।। »

दर्द

दर्द को दवा समझ लिया जबसे पीड़ा थोड़ी बुझी बुझी सी है »

तारीफ़

उनसे कहदो थोड़ी कम तारीफ़ करें हमारी हम गुमनाम शहर से अभी अभी निकलकर आए हैं…….. »

मोहब्बत

अपनी मोहब्बत को अपने लिए भी बचा कर रखिए साहेब शाम- ए- जिंदगी में बड़ी काम आयेगी। »

मयस्सर

वो मयस्सर नहीं हुए जिंदगी में तो हम मौत तक उनका इंतज़ार करते रहे।।। »

ख्वाबों की बिक्री

मेरे ख़्वाबों को बेचकर अच्छा किया जो तुमने अपनी दुकान सजा ली »

नजर भी

अपनी कमियो पर रखिये नजर भी जनाब। हर बार गलती दूसरे की नही होती।। »

दुआ

दर्द है उन्हे पर दर्द की वजह का पता नही। दवा चाहिये या दारु या दुआ होगी कबूल…अब यह भी पता नही।। »

Bhagya

गुजर रही है जिन्दगी यूं ही गुजर जायेगी। प्रभु तेरी कृपा से भाग्य संभल जायेगी।। »

वजह

मिलने की वजह भी हम बेवजह ढूँढते है। उन्हें मिलना नही और हम बहाने ढूढते है।। »

Talaash

तलाश करते हैं हम तुम्हारी। बिना पते की चिट्ठियों की तरह।। »

Safayikarmi

कितनी गंदी हैं तुम्हारे शहर की गलियां। सब कुछ साफ़ रहता था जब हम रहा करते थे।। »

नाम

“मोहब्बत” इसको कहते है “उनके” “नाम” पर “सब” “लिखना” पर उनका ……. “नाम” “ना “लिखना। »

तय

फ़ैसला हार जीत का तो समय तय करता है। कोशिश मे रह जाये कसर यह तय हमे करना है।। »

जय हो

मेरा कुछ भी लिखना…प्रभु जी तुमसे अर्चना का उपहार.. करना होता है… अपने शब्दों से तुम्हे पुकारना… तुम्हे याद करना होता है…. »

मनोरथ

बिन मेहनत मनोरथ पूर्ण न होगे। प्रभु की कृपा से सब काज सफल होगे।। »

गलती

हो सके प्रभु तो मेरे गुनाहो को माफ कर देना। इन्सान हूँ गलतियां होना तो लाजमी ही है।। »

अगर मैं होता राजकुमार

अगर मैं होता राजकुमार जनता से ख़ूब करता प्यार देश के हर गली मुहल्ले से , मिटा देता अत्याचार ……. अगर मैं होता राजकुमार । मेरे लिए भी होती,कोई राजकुमारी मुझपै वो मरती,लगती बड़ी प्यारी चाँद और चकोर के जैसे, करती मुझसे प्यार ……. अगर मैं होता राजकुमार । अपने लिए भी एक और ताजमहल बनवाता देश से सब प्रेमी प्रेमिकाओं को बिलवाता हमसब मिल कर बनाते, एक नया संसार……. अगर मैं हो... »

आशीर्वाद

सुबह होते ही प्रभू चरणो की आस होती है। आशीर्वाद की दौलत ही मेरे पास होती है।। »

दर्द सोया है

रात से कह दो कि थोड़ा थम कर गुजर। आज बहुत दिनो बाद आज दर्द सोया है।। »

रंग

पल पल बदलते है लोग रंग। फिर भी पूछते है….. कि होली कब है??? »

लब्ज

कर न सको सम्मान तो किसी को घर बुलाया न करो। दो लब्ज बोलने मे निकलती है जान…. तो सामने आया न करो।। »

Langar

देकर निमन्त्रण पत्र वो स्वतन्त्र से हो गये। क्या कायदा है जमाने का… कागज पर ही मर मिटे। तो लब्ज बोलना मुनासिब न समझा,निमन्त्रण नही….लगता लंगर का पैगाम दे गये। »

दिल दुखाना

हुआ है मन मे संताप तो अब क्या फायदा? माँ बाप का दिल दुखाकर मिले गर खुशी…. तो उस खुशी का क्या फायदा??? »

मानवता

हमदर्दी की चादर अब सुकुड़ सी गयी है। मानवता और दया अब कुछ पड़ गयी है।। »

Page 1 of 10123»