तेरे इंतज़ार में

तबियत कुछ नासाज़ है,

दिल ज़रा उदास है,

तेरे ना होने से इधर,

मैं हूँ बेसुध सी,बेखबर।

माथे की बिंदी ना दमके,

चमचम चमचम क्यों ना चमके!

क्यों फीकी सी पङी है इस कदर,

सूर्ख़,फिर भी बेरंग मगर।

खिलखिलाती ना चूङियों की खनक,

टीस उठाती सी मानो इक कसक, 

बोल उठती है खनखनाकर, 

तू किधर,तू किधर।

पायल की मीठी झंकार

भी बजने से करती इंकार,

फिरती थी दिन रात जो छनछनाकर, 

अब बैठी है मुझसे रूठकर।

कानों की बाली,

मस्त सी मतवाली,

अब ना झूमती इतराकर,

बस देखे मुझको टुकुर टुकुर।

सोने का मेरे गले का हार,

निष्तेज़ पङा करे चित्कार,

बार बार तुझे ढूढ़कर,  

चुप है देख थक हार कर।

नज़ाकत से भरी मेरी चाल,

अब हो रही है बदहाल,

ले चलती है यूँ घसीटकर,

तेरी आवाज़ की लय पर।

तेरी आहट के बिना,

सब कुछ सूना,

अब तो आजा,ना रह और मुँह मोङकर, 

तेरे दरस की प्यासी,यूँ ही चली ना जाऊँ,सब कुछ छोङकर।। 

-मधुमिता

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close