Madhumita Bhattacharjee Nayyar, Author at Saavan's Posts

WORLD OF LOVE

Two beautiful souls together, Lost in themselves altogether, In each other’s eyes Their entire world lies, Her flowing hair Shades him from all harm and despair, Her loving arms around him, Filling his life with her love to the brim. Their looks meet, Their smiles sweet, Lips trembling with passion, Hearts full of red velvety emotions, The small love talks, Quietly the hour walks Disturbing ... »

SOLITARY FRIEND

The vast expanse of green High trees weaving a lovely screen And the solitary bench Like me alone, on this ground entrenched, Every morning we both sit together, Share our stories as birds chatter, Her old nuts squeak, My old bones creak, I sit for hours with her, Taking in the beauty around her, Breathing the fresh air, At times saying my morning prayers, My rosary in hand, Trying to reach out to... »

अपनी माँ को तरसती हूँ

दो रोटी गर्म गर्म फूली हुई सी आज भी जो मिल जाये तो मै दौङी चली आऊँ, दो कौर तेरे हाथों से खाने को जो अब मिल जाये, तो मै सब कुछ छोङ आ जाऊँ। तेरे हाथों की चपत खाने को अब तरसती हूँ मै, तेरी मीठी फटकार खाने को अब मचलती हूँ मै, बहुत याद आती हैं हर डाँट तेरी, वो झूठा गुस्सा शरारतों पर मेरी। वो हाथ पकङकर लिखवाना, कान पकङ घर के अंदर लाना, वो घूमती आँखों के इशारे तेरे, भ्रकुटियाँ तन जाने तेरे, मुझको परी बना... »

ओ हरजाई

तू कहाँ छुप गया है, ना कोई खबर ना पता है, ज़िन्दगी भी वहीं ठहर गई , मेरी दुनिया भी तभी सिमटकर रह गई, लफ़्ज़ ठिठुर रहे हैं, अहसास सर्द पङे हैं, जज़्बातों में जमी है बर्फ की चादर, चाहत की आग सुलग रही पर दिल के अंदर। अधर अभी भी तपते हैं, तेरे अधरों को महसूस करते हैं, आँखों में आ जाती नमी है, सब कुछ तो है मगर,एक तेरी कमी है, नज़रों को तेरे साये का नज़र आना भी बहुत है, तू जो दिख जाये तो ‘उसकीR... »

FREEDOM

Am I really free? Then why am I tied to thee My husband, my father, My son, my brother? Why are my wings clipped? Why am I not equipped With schooling and education Despite my adjurations! Am I just meant to stay at home! Why cannot I too like my brothers roam? Why are my demands met with silence And taken as my defiance? I should be free to study, Like everybody, To run and play, Sunday,Monday an... »

बरखा रानी

घिर-घिर आये मेघा लरज-लरज, घरङ-घरङ खूब गरज-गरज, प्रेम की मानो करते अरज, धरती से मिलने की है अद्भुत गरज। रेशम सी धार चमकीली, नाचती थिरकती अलबेली सी,करती धरती से अठखेली, मानो बचपन की हमजोली । बूंदों के मोती, हर पत्ते पर गिरती, आगे पीछे हिलती डुलती, फिर उनपर चिपक कर बैठी। किया है स्नान आज फूलों ने, खिल-खिल गयीं आज बूंदों से, रेशम सी पंखुङी में बंद कर कुछ मोती क्षण में । मीठी-मीठी बरखा की फ़ुहार, शीतल ... »

जलन

मै कभी भी तुमसे परेशान नही हो सकता, कभी नही,किसी सूरत मे भी नही। तुम कभी मुझे हैरान नही कर सकती, गर ऐसा हुआ, तो बहुत हैरानी होगी। तुम चाहे कुछ भी करो मुझे नाराज़ करने को, मै तुमसे कभी भी रूठ सकता नही। तुम कितनी भी कोशिशें कर लो मुझे जलाने की, कोई जलन कभी मुझे छू भर भी सकती नही। तुम चाहे किसी गैर के साथ आओ, किसी भी पुरुष के साथ जाओ, चाहे हज़ारों लब तुम्हारे जुल्फों में दिखें, या सैंकडो दिल तुम्हारे... »

FORGIVE

He was just like the fragrance, Only the essence, Could feel his presence Everywhere,every minute and second. What will happen to her, The beautiful,radiant flower, Freshly bathed in the dew drops shower, But losing her sheen every hour. She thought it was a minor injury, Would heal in a hurry, In deadning pain and misery, It was about him,she did worry. She could not figure that he was in her, In... »

Rain and Love

Ahh!! Those ole rainy days, Incessant water pouring through the whole day, You and me walking hand in hand, Towards distant dreamlands, Through the drizzle and sirimiri,  Amazed at nature’s glory, The dark sky overloaded With clouds heavy and ready to explode, Clouds like the heavily pregnant woman, Within her carrying triplets or twins. Our wet bodies with running streams  Of water;cold and close... »

परी

मिट्टी से गढ़ी है,  नन्ही सी परी है,  ना माँ की दुलारी, ना बाबा की प्यारी, ये सङकें ही घर है इसका , यहीं सारा जग है जिसका । ना गुङिया,मोटर गाङी,  ना बर्तन,कप-प्लेट,ना रेलगाङी,   कोई खिलौना नही खेलने को, नही कोई झूला झूलने को, बस है भूख और गरीबी, कोई और नही,बस यही दोनों इसके करीबी। ऊपर खुला आसमान,  नीचे गर्मी और थकान,  कभी सर्दी की रातों की ठिठुरन, कभी बरसात में बचता,बचाता भीगता बदन, सूरज,चंदा इसके... »

FEAR

Why am I scared  Of not being cared For,of being unheard, In this world with claws and teeth bared. Why am I so afraid Of the world I myself made! Standing in it’s cool shade, Why do I feel it will renegade! I fear no one will come to my aid, I hear the scary footsteps that time made, A conniving game, both age and destiny played, I stand helpless, agonised and betrayed. I did dare to do man... »

बेटी की अभिलाषा

आज भी मै बेटी हूँ तुम्हारी, बन पाई पर ना तुम्हारी दुलारी, हरदम तुम लोगों ने जाना पराई, कर दी जल्दी मेरी विदाई। जैसे थी तुम सब पर बोझ, मुझे भेजने का इंतज़ार था रोज़, मुझे नही था जाना और कहीं, रहना था तुम्हारे ही साथ यहीं। पर मेरी किसी ने एक ना मानी, कर ली तुम सबने अपनी मनमानी, भेज दिया मुझे देस पराया, क्या सच में तुमने ही था मुझको जाया? जा पहुँची मैं अनजाने घर, लेकर एक छुपा हुआ डर, कौन मुझे अपनायेग... »

नश्वरता

आज चाँद जब कर रहा था अठखेलियाँ, विचर रहा था मेरे आसपास की गलियाँ, मैं भी आँखें मींचे, कर रही थी ठिठोली, दोनों इक दूजे संग खेल रहे थे आँखमिचौली। मैं परदे के पीछे से रहती ताकती, छुपकर धीरे से झाँकती, अलसाया सा वो धीमे से बढ़ता आगे को, बदमाश देखो,ढूढ़ रहा मुझको। कभी वो छुप जाता बादलों के पीछे, तो कभी मैं अलगनी के नीचे, निकल आता कभी वो अचानक, होती ढप्पे की उसकी,हल्की सी धमक। कभी करता सितारों से गपशप, ... »

THE SMALL LITTLE GOLDEN BOX

The small little golden Box,full of fragrances Of days old and memories Of you and us together. It still treasures The red roses, You had once given me, Then fresh and fragrant, Now parched and dried, A little musty, Still filling me up With a fresh rosy smell And the pink of romance Of those teenage days. There hides within, A pair of earrings , Golden and pearly, Like the early days Of our relat... »

ख़त

यादों की गलियाँ सजी हैं, कुछ झालरें,पुराने दिनों की लगीं हैं, कुछ रंगी से दिन हैं बिछे, कुछ रेशमी रातों के पीछे। मेरी खिङकी के नीचे तेरा खङे रहना , चुपके से आकर,मेरी आँखें,अपनी हथेली से मीचना, बेसब्री से तेरा करना,मेरा इंतज़ार, क्यों याद आ जाता है बारबार । मुस्कुराकर मुझे फूलों का गुच्छा थमाना, झिझकते हुये, घबराते हुये,मेरा कबूल करना, ना-ना करते भी,मुहब्बत को अपनाना और उसकी गिरफ़्त में बिल्कुल खो ... »

तेरे इंतज़ार में

तबियत कुछ नासाज़ है, दिल ज़रा उदास है, तेरे ना होने से इधर, मैं हूँ बेसुध सी,बेखबर। माथे की बिंदी ना दमके, चमचम चमचम क्यों ना चमके! क्यों फीकी सी पङी है इस कदर, सूर्ख़,फिर भी बेरंग मगर। खिलखिलाती ना चूङियों की खनक, टीस उठाती सी मानो इक कसक,  बोल उठती है खनखनाकर,  तू किधर,तू किधर। पायल की मीठी झंकार भी बजने से करती इंकार, फिरती थी दिन रात जो छनछनाकर,  अब बैठी है मुझसे रूठकर। कानों की बाली, मस्त सी ... »

A Promise

Me the gurgling,dancing stream, You are endless,the extreme, Jumping over the Rocks and boulders, With a wish to lean on your shoulders, Leaving my place of origin, Washing away all dirt and sins, I erode and break the solid to dust, To be one with you,that I must, I give you your form and expanse, As drop by drop towards you I advance, But finally when we meet, Amidst the vast watery sheet, I los... »

किस्मत की पहेलियाँ

खुली हुई हथेलियाँ,मानो, किस्मत की पहेलियाँ l लकीरों का ताना बाना, ना जाना, ना पहचाना, जुडी हुई, ना जाने क्यूँ ! कैसे मेरे नसीब से यूँ , मकड़जाल सी ये रेखाएं , ऊपर-नीचे, दाएँ-बाएँ, मानों मेरी किस्मत को नचाती, कठपुतली की भांति, कहीं कटी राह,तो कहीं बाधा है, कुछ भी ना पूरा,सब आधा है, इन लकीरों में गुंथी हैं मेरी चाहते, कुछ ख्वाहिशें और कुछ हसरतें, एक आङी-टेढ़ी तस्वीर बनाती है, जो रह रह मुझे डराती है, ... »

Bothered

Am I bothering you? Is it from you a cue! Am I being bothered? Or with our lives altered, Are not we both bothered! Both of us angered , At the predicament, Both of us innocent, Trying to tread together, In a bid to make it all better, With mismatched steps, And a relationship complex. Timing and teaming it up with happiness, But with an ill timed togetherness, We tripped and fell, Knowing our mis... »

SEE THE WORLD GO BY 

The clear blue sky, Invites me to fly, High, high,high, See the world go by, With my twin eyes, All before I go and die. As the peacocks cry, Standing on the Earth dry, While the floating clouds lie, Across the sky as they ply, The dark sparrow appears a spy, When the rains shy. Humans sigh, Days turn hot and dry, The end seems nigh, All hassled as I, Throats parched,smiles wry, Patience is what t... »

तू कहीं है यहीं

कुछ अनकहे अलफ़ाज़ , कुछ बुदबुदाते से अहसास, तेज़ होती साँसे, मनचली सी ख्वाहिशें और धडकनों का साज़ , जो देती हर पल आवाज़, यूँ दिल ने कहा , तू कहीं है यहीं , यहीं कहीं, मेरे आस पास ! हवाओं का मचलना, किरणों का रंग बदलना, गुलाबी से गाल, बयां करते दिल का हाल, ऐसे में कोयल की कूक, उठा जाती दिल में एक हूक, फिर दिल ने कहा, तू कहीं है यहीं, यहीं कहीं, मेरे आस पास! फूलों का हल्के से मुस्कुराना, तितलियों का यूँ ... »

पराई

हाँ हूँ मै पराई   लो कह दिया मैंने   खुद को ही पराई….       सबने जी दुखाया,   कहके मुझे पराया,   बाबा की बेटी बन,   बनके भाई की बहन,   निभाए मन से सारे बंधन,   फिर भी मुट्ठी भर अन्न   पीछे फेंक माँ के आँगन,   चुकाने पड़े  सारे क़र्ज़,   निभाए सारे जितने थे फ़र्ज़,   कर दी मेरी विदाई,   कह कह कर मुझे पराई……       आई पिया के देस,   बदला ठौर, बदला भेस,   तन मन सब वारा,   अपनाये नए  संस्क... »

हसरतें हैं, चाहते हैं और हैं ख्वाहिशें

हसरतें हैं, चाहते हैं और हैं ख्वाहिशें, ज़िन्दगी के रंग बिरंगे बुलबुले खुशनुमा है,खुशफहम है,फिर भी है गर्दिशें, दोस्ती है, है मुहब्बत, साथ फिर भी रंजिशें, खौफ है,और मौत है और हैं यूरिशें, फिर भी है मुक्कम्मल हौसले, है तुझ पे नाज़िश, तू हसीं हैं,ख़ूबसूरत, तू माह -वाश, बे साख्ता ,बे अंदाज़ा,पाकीज़ा । मदमस्त है,सुकून है,है हर दिन नए परवान, ये वक़्त बेशकीमती,हर गोशा गिरां इक कशिश है,इक करम है हरसू करीम,... »

THE NIGHT JASMINE SLEEPS

The Night Jasmine and him, Oh! Was not it just a whim Of hers! She felt him around, She heard her heart pound, Wanting to call out  To him; and set about On her journey of love, As dew trickled from the leaf above, She felt his breath warm, Wanting to be in his arms. He was taken in by her beauty and charm, To her,he could do no harm, He wanted to protect her, Emotions beginning to stir Within his... »

भाई

बहुत थी मैं उसदिन रोई, अजीब पीङा में जब,माँ गयी पर देखो तो, माँ आई, माँ आई, साथ में अपने,भाई को भी लाई । थकी हुई सी माँ ,साथ नन्हा सा खिलौना माँ लेटी तो साथ बिछ गया,उसका भी बिछौना, नहीं पसंद था, अपने साम्राज्य में ये अनजाना अधिकार, कहीं हुआ था कोमल मन पे हल्का सा प्रहार । फिर धीरे-धीरे खींचने लगा उसकी ओर मेरा मन, हर बात अद्भुत लगी, उसकी हंसी,उसका रुदन, कुछ ऐसे ही , खेल खेल में बीतने लगा यूँ बचपन ब... »

चाहती हूँ मैं

दौङना चाहती हूँ मैं, क्या मुझे वो राहें दोगे? दुनिया को देखना चाहती हूँ मैं, क्या मुझे वो नज़रें दोगे? अपने दिन और रातों को रंगना चाहती हूँ मैं, क्या मुझे वो रंग दोगे? खिलखिलाकर हंसना चाहती हूँ मैं, क्या मुझे वो खुशियाँ दोगे? आसमान को छूना चाहती हूँ मैं , क्या मुझे वो पंख दोगे? पढ़ना और लिखना चाहती हूँ मैं, क्या मुझे ज्ञान का वो वरदान दोगे? अपना नसीब को खूद लिखना चाहती हूँ मैं, क्या मुझे वो कलम दे... »

Own Path

Everyone has his or her own  Path to traverse, Known or unknown, Without any options of a reverse Back,going back to the start Again and taking another path, Beginning with a jumpstart, Treading into strange swaths. Mom took my fingers and showed, Me the world out of the door, Daddy directed me to the access roads, Just that,no holding my hands anymore, Some friends did accompany, They too had the... »

बारिश की बूंदें

जलती हुई सूरज की किरणों के बीच, तपती हुई हर चीज़, जल, थल, खेत, मकान, गरमी से बोझिल हर जान। ऐसे में मेघों की गङगङाहट, ऊपर नीचे होते चातकों की फरफराहट, बूंदों की चाह में ऊपर ताकता हर प्राणी, तभी अचानक चेहरे पर पङता, बारिश का पानी । लहराती सी,बरसती हुई,बूंदें ठंडी-ठंडी, गर्म धरती के हृदय से उठती,महक सोंधी-सोंधी, कभी तेज, कभी धीरे से, नाचती हुईं बौछारें, तन-मन को ठंडक पहुँचाती,ठंडी सी फुहारें। नाच उठे... »

LOVE STORY

She waited for him near the flower bed, Her heart beat fast as she heard him tread Towards her,slowly and softly, She stood all drenched in sweat,calmly, He came near her and looked in her eyes, Her drooping eyelids,her feminism did emphasize, She twisted and turned the corner of her shirt, As his eyes with her did flirt, In a lovely, romantic,teasing way, Her eyes responding in abandon gay. The c... »

नरासुर

भयावह हो,मासूम हो?कैसा है चेहरा तुम्हारा? घूमते हो बीच हमारे, फिर भी ना जाना हमारा, नज़रें तुम्हारी अनजानी सी, अनदेखी, ना पहचानी सी, ना जाने किस किसको ढूढ़ते रहते हो, ना जाने किस किसका शिकार करने निकले हो ! कभी कोई मामा,चाचा, कहीं तो भाई, काका, कहीं अंकल, तो कहीं सखा, हर कोई अपना सा लगा, अनदेखे से भी लोग बहुत है, एक ही सी मगर सबकी सूरत है। कहीं कोई निरस्त्र,अबला नारी, शिकार हो गयी हवस की तुम्हारी,... »

चाह

जुङे हुये दो बेरंग लब हैं, इनमें क्यों रंग भरना चाहते हो!! हर अंग मेरा बेज़ुबान है, तुम कैसे उन्हें बुलवाना चाहते हो!! सूखी हुई सी आँखें हैं, इनमें आँसूं क्यों लाना चाहते हो!! टूटा हुआ दिल है मेरा, उसे जोङने की क्यों जुगत लगाते हो!! अनगिनत ज़ख़्मों से भरी हूँ, उन पर क्यों मरहम लगाते हो!! रोम-रोम मेरा दर्द से भरा है, तुम उनको सुकून पहुँचाना क्यों जारी रखते हो!! रूह मेरी भटक रही है, तुम क्योंकर उसे ... »

प्यार भरे वो दिन

क्या तुम्हे याद है कब हम-तुम मिले थे, काॅलेज के गलियारों में यूँ ही बतियाते चले थे, हल्की सी मूँछों वाले,कमसिन से तुम, जवानी की दहलीज़ पर खङीं,कोमल से हम, वो एक दूसरे से नज़रें चुराना, दूसरों की नज़र बचाकर,नज़रें मिलाना, वो भोले से,मस्ती भरे दिन सुहाने, अपने दिल के नग़में,होंठों पर अपने ही तराने। ना जाने कैसे हम आयें पास,बनने को एक जान, दोनों थें कितने अलग,कुछ भी ना था एक समान, तुम गुमसुम से,चुप ब... »

THE NIGHT JASMINE IN LOVE

Surrounded by his strong slender fingers, She felt secure,as they stood near the springer, His masculine,strong fragrance lingered, Making her fall under his spell,in that pre-winter, She made herself more comfortable,unhindered, While his warm breaths to her,whispered, She felt his warmth all over her, As his fingers prodded over her silky figure, The stars shone like pieces of silver And the hea... »

THE NIGHTMARE

The night is burning away, Everywhere the flames sway, In a naked dance of brutality, The man made signs of fatality, Stare at me in the eyes, As I turn to ice, The red skies reflecting the shades fire, My heart gets filled with utmost ire, Seeing the torn clothes,shoes scattered around, In the crackling noise,all voices of people drowned. The entire world is burning and set afire, Burning buses,h... »

तुम ही

अंधियारे को उघाङती हुई, रोशनी सी बिखेरती हुई, वो छुपी सी इक काया, मुस्कुराती हुई ,तुम ही हो ना? शांत सी हवा में मानों,पायल की छमछम,   हल्के से कानों में बजती,साँसों की सरगम, वो वीणा की झंकार सी लगती, मौसीक़ी की सुर ताल में रंगी,तुम ही हो ना? बारिश की बूंदों में जलतरंग सी बजती, फिर इंद्रधनुष सी सजती, सातों रंगों में,सब रंगने वाली, रंगीन सी अदाओं में,तुम ही हो ना? फूलों का मख़मली स्वरूप,  चंदा का वो... »

THE VILLAGE GIRL

Not are the stars for me, Not the world for me to see, Not meant for me are the small joys of life, My life is just full of strife, My brother has the right to go to school, While I sit at home,learn to handle utensils and wool, Educating myself is beyond my bounds, No games,no sports, no playgrounds, The kitchen remains my only ground, Where I learn to cook,grind and pound, The various spices and... »

झूठ का पाश

खुद को,झूठ के एक लौह जाल में घेर लिया तुमने झूठ का ये लिहाफ़,क्यों ओढ़ लिया तुमने, ये भी झूठ और वो भी झूठ, हर वचन पर,सच जाये टूट, हर मोङ पर तुम्हारे बोल, सिखा जाती है ये अनमोल, कि किसी के कहे पर ना करो विश्वास, किसी से ना बांधो इतनी आस कि दिल को पहुँचे भारी आघात; और झूठी लगने लगे अपनी ही बात। वो कसमें, वो वादे सभी झूठे, जिनके पीछे, सब अपने मेरे छूटे, झूठे तुम्हारे रिश्ते नाते, हर एक तुम्हारी सच्चा... »

TOGETHERNESS

My love for you knew no bounds, It grew in abounds, I traveled to magical lands, Your hands holding my hand, Together we flew high and high, Touching the lovely blue sky, Traversing amidst the planets and stars, Going away from the world, afar. The flowers coloured  our lives, As our hearts danced in jives,  The butterflies carried us to lands of dreams, Where happiness flew forever in lively stre... »

THE WINNER

Do away with the turmoil, Lest they totally spoil, The crops of your labour and toil And reduce them to soil. This phase of despair shall pass, So do not try to amass Them,let them take a bypass, See that you don’t let them surpass. You are a solid rock, Do not let them block, Your way or steady walk, For they are mere baulks. Carry on with your decisive stride, With your instincts acting as... »

हाँ मुझे है प्यार

क्या मै तुमसे करती हूँ प्यार, हाँ प्यार है, या है इनकार, बङी ही उलझन में पङ गयी हूँ , क्यों तय कर नही पा रही हूँ , कभी लगता है करती हूँ प्यार, कभी लगे,शायद नही है अब इकरार, और इसी हाँ-ना के फेर में, आनाकानियों के हेर में, मैं काफी सारी दूरी तय कर आयी, तुम्हें प्यार करने से,ना करने तक आ गयी, दिल मेरा नर्म से पत्थर का बना जाता है, खूं मेरा गर्म से सर्द सा हुआ जाता है । क्या मैं तुम्हारा करती हूँ इंत... »

MY DESTINATION

The moon peeping in around, From behind the silken clouds, Looking about with open eyes, As the night slowly tip toes, The velvety darkness,slips , Bit by bit and dreams start their trip Into my colourful, romantic world, As rainbows whirled, I furled and curled In the soft touches,of my dreamworld. I try to capture the silky grace Of the night in an embrace, It slithered and moved ahead, Fast lik... »

दूर ना जाना

कभी भी इतनी दूर ना मुझसे जाना, कि मुश्किल हो जाये पास आना, बहुत लम्बी होती है एक दिन की दूरी भी जब बैठी रहूँ मैं इंतज़ार में,कुछ बेइख़्तियारी सी भी है, जब चिराग की लौ भी टिमटिमाने लगे और चांदनी भी कुछ धुंधलाने लगे , जब सो जाये दुनिया सारी, तब रात काटना हो जाये भारी, हर पल दिल को तेरी ही चाहत है, हर आवाज़ लगती,तेरे पैरों की आहट है। कोने में धीमियाती अंगीठी, जब घूरे मुझको ,गुस्से में, रूठी सी,मेरे ब... »

YOU

The melting,soft white cloud Behind the sun ,shining loud, In the heat of May, Is not that You! The falling, cool showers, On the red hot embers, So the heat allay, Is not that You! In the darkest of nights Glowing like the candle’s light, Showing me the way, Is not that You! When I am suffering a heartache, Holding me like a strong palisade, Preventing it from breaking away, Is not that You... »

अकेला

जीवन के सफर में अकेला हर शख्स यहाँ, हर छोटे बङे रस्ते पर अकेले ही चला जा रहा, अक्स बहुत हैं बिखरे इधर, पर अपना ही अक्स सिर्फ दिखे जिधर, आजू-बाजू, पीछे -आगे , कहीं भी जाये,कहीं भी भागे, मीठी बोली कई यहाँ बोले, कोई नही जो साथ होले, जो आगे बढ़कर थामे हाथ, कोई नही जो चल दे साथ । कोई नही जो सुने व्यथा, ना कोई जो प्यार से चूमे माथा, कोई नही जो सपने दिखाए, उन राहों पर आगे ले जायें, कोई नही जो जगाए आस, आक... »

THE COBWEBS

My thoughts weave a cobweb Around me,as I ebb And flow in like a wave, They strangulate and cave In and I crave for some air, As they fiercely glare At me, drops of perspiration Appear on my forehead,resulting in a creation Of an unending maze, The dark shadows graze On each and every part of my brain, Each breaking into unbearable pain. I try to run away and escape, They run after me changing sha... »

माँ मेरी

तुम्हारे हाथ का हर एक छाला, चुभा जाता है इस दिल में एक भाला, हर एक रेखा जो तुम्हारी पेशानी पर है, एक दास्तां बयां कर जाती किसी परेशानी की है, बता जाती है वो दर्द को,जो सहे तुमने, हमें लाने इस हसीन जहां में अपने। उंगलियाँ पकङ चलना सिखाया, मामा,दादा,बोल बोल देखो खूब बुलवाया, खाना खाना, नाचना गाना सब सीखे तुमसे, तंग किया,फिरकी की मानिंद घुमाया,फिर भी ना खीजीं हमसे, हर रोज़ नयी तैयारी थी, हम ही तो तुम... »

MY MOTHER

I could not see you when I opened my eyes, As the immense pain made you without senses lie, But my baby cries Made you conscious and arise Out of the hospital bed and stand, To take me in your weak hands. You took me out of the crib, Assisted by your own sib, As you lightly cradled me, In your eyes I could see, A mother’s love for her child, As your glistening eyes smiled Down at me and held... »

कैसे!!

आसमां, बहुत है पास मेरे, कठोर बहुत हैं हवाओं के थपेङे, निष्फल करती मेरे हर उस कोशिश को, मानो मुझे रोकना ही, उसका एक मात्र ध्येय ये तुम जानो। उङ सकती हूँ इस दुनिया से कहीं परे,जहाँ गले मिलूँ मैं कोमल,धवल बादलों से, खूब करूँ अठखेलियाँ उनसे,तोङ सारे बंधन, तोङ कर सब बेङियाँ। सुनहरे से कुछ सपनें हैं इस जहां के पार, जिनको पाने में है पूर्णता मेरे अंतर्मन की,हर कोशिश पर जारी है,करने को मेरे मन का दमन। हर... »

THE NIGHT JASMINE IS BORN

In the early hours of that cool night, Showed the Night Jasmine bright, A beautiful,white and pure bud, With ethereal beauty running through like blood, Created with Nature’s immense love, She was here to spread true love, An image of simple purity, She was a picture of naivety, The dew drops fed her with life, As she was surrounded by loosestrife. She is here to spread happiness, Not only t... »

बचपन

तितली सी उङती फिरती थी, ठुमक ठुमक कर,इतराती, सारे रंग संजो लेती थी, खुशियों से मुस्काती। माँ-बाबा से बकबक बकबक, भाई से नादां सी खटपट, गुङियों में तमाम ज़िन्दगी जी लेना, सपनों की सुंदर सी दुनिया में पलना। ना मेरा था,ना तेरा था, सब कुछ जब हम सबका था, झगङे होते थे जब क्षण भर के, मुस्कुराते थे सदा जब मन भर के। इसे मारना,उसे रुलाना, फिर खुद ही जाकर पुचकारना, कट्टी-अब्बा का वो खेल, कैसा था वो अनूठा मेल।... »

Page 1 of 212