दे के वो गिनते रहे

 
दे के वो गिनते रहे ज़ख्म मेरे
मैं उनकी सादगी पे फ़िदा हो गया
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close