मंज़िल

मंज़िल की बेताबी खत्म हुई
यूँ कारवां से दिल लगाया हमने
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close