मुक्तक

बीता हुआ जमाना आया है याद मुझे!
तेरे दर्द़ का तड़पाता फरियाद़ मुझे!
जिन्दगी बेताब है तुमको फिर पाने को,
हसरतें बेसब्र हैं करने को बर्बाद मुझे!

Composed By #महादेव

Related Articles

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

New Report

Close