मुक्तक

मेरी नज़र से दूर तुम जाया न करो!
मेरे हसीन ख्वाब को तड़पाया न करो!
तेरे लिए बेसब्र हैं ख्वाहिशें महादेव,
मेरी मंजिलों पर गम का साया न करो!

मुक्तककार- #महादेव’

Related Articles

नज़र ..

प्रेम  होता  दिलों  से  है फंसती  नज़र , एक तुम्हारी नज़र , एक हमारी नज़र, जब तुम आई नज़र , जब मैं आया नज़र, फिर…

Responses

New Report

Close