मुक्तक

मैं क्या भरोसा कर लूँ इस ज़हाँन पर?
डोलता यकीन है टूटते इंसान पर!
हर किसी को डर है तूफाने-सितम का,
आदमी जिन्दा है वक्त के एहसान पर!

रचनाकार -#मिथिलेश_राय

Related Articles

ठान लूँ गर

ठान लूँ गर मैं तो कुछ भी कर सकती हूँ ठान लूँ गर मैं तो असंभव भी संभव कर सकती हूँ ठान लूँ गर मैं…

Responses

New Report

Close