मेरी जिन्दगी तुम्हारी आहट खोज लेती है

मेरी जिन्दगी तुम्हारी आहट खोज लेती है!
कोई कली जिसतरह मुस्कुराहट खोज लेती है!
हरतरफ होती हैं दीवारें सन्नाटों की मगर,
मयकदों को जाम की सुगबुगाहट खोज लेती है!

Composed By #महादेव

Related Articles

मुक्तक

जिसतरह फूलों को मुस्कुराहट ढूंढ लेती है! मुझको तेरी यादों की आहट ढूंढ लेती है! जब घेरती हैं नजरों को तस्वीरें दर्द की, मुझको मयकशी…

Responses

+

New Report

Close