मेरे दिल की

मेरे दिल की गहराईओं में है वो कहीं न कहीं !

लाख भूलना चाहूँ उसकी याद आ ही जाती है।

Related Articles

Karwa chauth

इक रात चांद यूं पूछ बैठा, इक सुहागन नारी से क्यों करती मेरी पूजा तुम, यूं सज धज तैयारी से क्यों रहती भूखी दिन भर…

Responses

New Report

Close